ये कैसे मोड़ पर खड़ा किया डॉलर की चाहत ने पंजाबी नौजवानों को

Tuesday, November 14, 2017 5:15 PM
ये कैसे मोड़ पर खड़ा किया डॉलर की चाहत ने पंजाबी नौजवानों को

चंडीगढ़ : पंजाबी नौजवानों में विदेश जाने का जज़्बा उन पर इस कदर हावी हो गया है कि जिसके चलते पंजाब के नौजवान संगीन अपराधों की जकड़ में फंस रहे हैं और साथ ही वो झूठे एजेंट्स के जाल में भी घिर रहे हैं। पुलिस की ओर से हिंदी संघ नेताओं के कत्ल की कहानी कुछ इसी तरह के हालात बयां कर रही है। मामले की जाँच कर रहे पुलिस अफसरों का कहना है कि विदेश जाकर डॉलर कमाने की चाहत पंजाब के नौजवानों के लिए घातक सिद्ध हो रही है। 

 

विदेशों में बैठे झूठे एजेंट्स सोशल मीडिया के जरिए इन नौजवानो के साथ सम्पर्क साधने में कामयाब हो रहे हैं। इसी के चलते अब पुलिस ने भी फेसबुक खातों का लगातार निरिक्षण करना शुरू कर दिया है। अफसरों का कहना है कि बहुत थोड़े पैसे और किसी पड़ोसी देश की सैर नौजवानों को आकर्षित कर रही है। जांच कर रहे  अफसरों का मानना है कि पिछले लगभग डेढ़ सालों में हुई कत्ल की वारदातों के लिए मुख्य रूप से इंग्लैंड और इटली से 50 लाख रुपए के करीब हवाले की राशि आई।  

 

उल्लेखनीय है कि पंजाब के नौजवान विदेश में जाकर पढ़ाई के लिए वीजा हासिल कर रहे हैं। ये बात जग जाहिर है कि जो नौजवान पढ़ाई के लिए वीजे के ज़रिए विदेश पहुंचने में समर्थ नहीं हैं, वो किसी भी तरीके से पंजाब छोड़ने के लिए तैयार रहते हैं। यूरोपीय देशों लिए पंजाबी अपनी जान को भी जोखिम में  डाल देते हैं।  



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!