प्रॉपर्टी टैक्स वसूली के लिए लाइब्रेरी और दमकल केंद्रों में भी निगम लगाएगा काऊंटर

Saturday, March 11, 2017 1:26 PM
प्रॉपर्टी टैक्स वसूली के लिए लाइब्रेरी और दमकल केंद्रों में भी निगम लगाएगा काऊंटर

नई दिल्लीः नगर निगम प्रशासन ने हाऊस टैक्स की वसूली के लिए अब शहर के दमकल केंद्रों और पुस्तकालयों में भी काऊंटर बनाए हैं। जहां होली के बाद अमेजॉन हाऊस टैक्स का भुगतान कर सकेंगे। नगर निगम प्रशासन ने शुक्रवार को निगम में कर्मचारियों की बैठक के बाद यह फैसला लिया। हालांकि इस बारे में अभी उपायुक्त की लिखित स्वीकृति लेना बाकी है। दरअसल, प्रदेश सरकार की ओर से 31 मार्च तक हाऊस टैक्स पर 25 प्रतिशत तक की छूट दी गई है। 

बता दें कि नगर निगम में 31 मार्च, 2017 तक शहर से 15 करोड़ रुपए प्रॉपर्टी टैक्स वसूली का लक्ष्य रखा गया था। साल के बजट सत्र की समाप्ति तक निगम प्रशासन अपने पूरे प्रयासों के बावजूद करीब 8 करोड़ रुपए ही टैक्स के रूप में वसूल कर पाया है। 20 दिन ही शेष हैं। ऐसे में निगम ने अब शेष 7 करोड़ राशि को वसूलने का लक्ष्य पाने के लिए अब नया फैसला लिया है। 

शनिवार को अवकाश के दिन भी निगम कार्यालय खुला रहेगा। शहरवासी प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान कर पाएंगे। एक्सईएन रामजीलाल और ईओ इंद्रजीत कुलडिय़ा द्वारा संयुक्त रूप से टीमें गठित कर टैक्स वसूली करवाई जाएगी। ऐसे में तकनीकी शाखा के एमई प्रवीन कुमार और एमई संदीप कुमार के साथ निगम कर्मचारी प्रॉपर्टी टैक्स वसूली करेंगे। 

एक्सईएन रामजीलाल ने कहा कि तकनीकी शाखा स्टाफ भी टैक्स वसूली में सहयोग करेगी। इसके लिए 500 बकायादारों की सूची तैयार की गई है। यदि टीम को बकायादारों ने भुगतान नहीं किया तो भविष्य में डिफाल्टर घोषित होने वालों की बिल्डिंग सील करने की कार्रवाई भी की जाएगी। 

लाइब्रेरी और दमकल कार्यालयों में भी होली के बाद 14 मार्च से शहरवासी अपना बकाया प्रॉपर्टी टैक्स भुगतान कर सकेंगे। इसके लिए निगम स्टाफ को दिशा निर्देश दे दिए हैं। 14 मार्च से टीमें इन स्थानों पर टैक्स वसूली शुरू कर देगी। इंद्रजीतकुलडिय़ा, कार्यकारी अधिकारी, नगर निगम हिसार। 

शहर के बड़े प्रॉपर्टी टैक्स बकायेदारों से नगर निगम प्रशासन उनके घर कार्यालय पहुंचकर टैक्स भुगतान करवाएगा। इसके लिए मोबाइल वैन कार्य करेगी। वह भी 14 मार्च से अपना टैक्स वसूली अभियान शुरू करेगी। इसके लिए निगम प्रशासन लिस्ट भी तैयार कर रहा है। इसके अलावा सरकारी विभागों में भी निगम टीम टैक्स वसूली के लिए जाएगी। 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !