उत्‍तराखंड: त्रिवेंद्र सिंह रावत होंगे नए मुख्यमंत्री, जानिए उनके बारे में 10 खास बातें

Friday, March 17, 2017 8:21 PM
उत्‍तराखंड: त्रिवेंद्र सिंह रावत होंगे नए मुख्यमंत्री, जानिए उनके बारे में 10 खास बातें

देहरादून: उत्तराखंड में प्रचंड जीत के साथ सत्ता में आई बीजेपी ने मुख्यमंत्री के लिए त्रिवेंद्र सिंह रावत के नाम पर मुहर लगाई है। देहरादून में शुक्रवार को आयोजित विधायक दल की बैठक में रावत के नाम को मंजूरी दी गई। शनिवार को देहरादून में त्रिवेंद्र रावत 10 मंत्रियों के साथ शपथ लेंगे। शपथ-ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के साथ-साथ केंद्र सरकार के अन्य मंत्री तथा पार्टी के अन्य पदाधिकारी भी शामिल हो सकते हैं। बता दें कि उत्तराखंड में बीजेपी ने 5 साल बाद सत्ता में पुन: वापसी की है। इस बार बीजेपी को कुल 70 में से 57 सीटों पर जीत मिली है। इन सभी नव-निर्वाचित विधायकों से शुक्रवार-शनिवार को राजधानी देहरादून पहुंचने के लिए कहा गया है। 
PunjabKesari

जानें वे 10 कारण जिसकी वजह से सौंपी गई उत्तराखंड की कमान-
1. त्रिवेंद्र रावत आरएसएस के प्रचारक रह चुके हैं। 1979 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े थे। 1983 से 2002 तक आरएसएस का प्रचारक किया। 
2. त्रिवेंद्र सिंह रावत भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेहद करीबी नेताओं में शुमार हैं जिसका उन्हें लाभ भी मिला है। 
3. 1993 में भारतीय जनता पार्टी के संगठन मंत्री बने।
4. वर्ष 2002 और 2007 में डोईवाला विधानसभा क्षेत्र से प्रथम और दूसरी बार विधायक चुने गए। 
5. वह 2007-2012 के दौरान राज्‍य की बीजेपी सरकार में कृषि मंत्री भी रहे। उसी दौरान बीज घोटाले में भी तत्कालीन विपक्षी कांग्रेस ने उनका नाम भी उछाला। 2012 में आई कांग्रेस सरकार लेकिन उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं जुटा पाई।
6. 2012 के विधान सभा चुनाव में डोईवाला सीट छोड़ उन्होंने रायपुर विधान सभा से चुनाव लड़ा लेकिन हार गए।
7. 2013 में बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव की जिम्मेदारी दी गई।
8. 2014 लोक सभा चुनाव में उत्तरप्रदेष में अमित शाह के साथ सहप्रभारी की जिम्मेदारी दी गई। जिसमें उन्होंने उत्तरप्रदेश से लोकसभा में 73 प्रत्याक्षियों को जितवा कर भेजा।
9. अक्टूबर 2014 में उन्हें झारखण्ड के प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. उनके नेतृत्व में पहली बार झारखण्ड में बीजेपी की पूर्ण बहुमत से सरकार बनी। 
10. रावत मृदुभाषी हैं, बहुत ज़्यादा खबरों में बने रहने से बचते हैं। प्रदेश संगठन और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच उनका सम्मान है और पार्टी में हमेशा उनका एक बड़ा ग्रुप रहा है। 

परिवार में कौन-कौन?
-त्रिवेन्द्र सिंह रावत का जन्म 20 दिस्म्बर, 1960 को उत्तराखंड के एक गांव खैरासैण में हुआ था।
-उनके पिता की नाम श्रीप्रताप सिंह रावत और माता का नाम श्रीमतीबोद्धा देवी था। 
-उनकी पत्नी श्रीमतीसुनीता रावत सरकारी स्कूल में शिक्षिका हैं। इन से त्रिवेन्द्र को दो बेटियां हैं।
-त्रिवेन्द्र इतिहास में एमए और पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएट किया हुआ है। 

 

 

 

 

 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !