''बच्चों की मौत के मामले में राजनीति न करे विपक्ष''

Saturday, August 12, 2017 11:17 PM
''बच्चों की मौत के मामले में राजनीति न करे विपक्ष''

बलिया: ऊर्जा मंत्री एवं राज्य सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले में स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे की मांग को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा, इस मसले पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। बलिया जिले के बांसडीह रोड थाना क्षेत्र के बजहा ग्राम में रागिनी की हत्या की घटना के बाद पीड़ित परिवार को ढांढस देने यहां आए ऊर्जा मंत्री शर्मा ने पत्रकारों से कहा कि गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत का मामला बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार की पीड़ित परिवार के प्रति पूरी संवेदना है।

 उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे की कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की मांग पर कहा कि इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। सरकार इस मामले में हर पहलू की जांच करा रही है, दोषी कोई भी हो उस पर कठोर कार्रवाई होगी एवं कोई बख्शा नहीं जाएगा। इस दौरान प्रदेश सरकार के प्रवक्ता शर्मा ने मदरसों में राष्ट्रगान एवं उसकी वीडियोग्राफी कराने के हालिया आदेश को लेकर हो रहे विवाद को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने पिछले वर्ष इलाहाबाद में मदरसे में हुई घटना को लेकर आदेश पारित किया है।

उन्होंने सरकार के आदेश का विरोध कर रहे लोगों एवं राजनीतिक दलों पर तीखा हमला करते हुए कहा कि संकीर्ण मानसिकता वाले निजी स्वार्थ के कारण राष्ट्र प्रेम से जुड़े इस मसले पर राजनीति कर रहे हैं। उधर, राम मंदिर मसले पर ऊर्जा मंत्री ने विश्वास जताया कि राम मंदिर मसले का उच्चतम न्यायालय के रुख के बाद बहुत जल्द समाधान हो जायेगा। उन्होंने कहा कि भगवान राम भारतीय संस्कृति के प्रतीक हैं। इलाहाबाद उच्च न्यायालय फैसला दे चुका है कि विवादित स्थल पर राम मंदिर था। उच्चतम न्यायालय भी आस्था से जुड़ा मामला बताकर शान्तिपूर्ण समाधान का रास्ता ढूंढ़ने का सलाह दे चुका है। 

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा कानून व्यवस्था के मसले पर लगाये गए आरोप पर उन्होंने अखिलेश पर तीखे हमले किये और कहा कि अखिलेश खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे की कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अखिलेश घर सम्भाल नहीं पा रहे. भरोसे एवं नेतृत्व का संकट है. उन्होंने इसके साथ ही कहा कि अखिलेश को योगी सरकार पर हमला करने की बजाय आत्मचिंतन करना चाहिये।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!