मैक्स अस्पताल लापरवाही मामला: दूसरे बच्चे की भी इलाज के दौरान मौत(Video)

Wednesday, December 6, 2017 1:12 PM

नई दिल्ली: मैक्स अस्पताल में समय से पूर्व जन्मे जिस बच्चे को पिछले हफ्ते मृत घोषित कर दिया गया था उसने इलाज के दौरान आज दम तोड़ दिया। एक सप्ताह तक जिंदगी की जंग लडऩे के बाद आज इस बच्चे ने पीतमपुरा के एक नर्सिंग होम में दम तोड़ दिया। 

पिता ने शव लेने से किया इंकार 
बच्चे के पिता ने लापरवाही के लिए जिम्मेदार डाक्टरों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए बच्चे का शव लेने से इंकार कर दिया। कुमार ने कहा कि मैं अपने बेटे का शव तब तक नहीं लूंगा, जब तक दोनों डॉक्टरों को गिरफ्तार नहीं किया जाता। जब तक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा, उनकी पत्नी भी उस अस्पताल में भर्ती रहेगी। वहीं मैक्स हेल्थ केयर के प्राधिकारियों ने एक बयान में बताया कि हमें समय से पहले, 23 सप्ताह में ही जन्म लेने वाले बच्चे के निधन की खबर मिली। वह जीवन रक्षक प्रणाली पर था। हमारी संवेदनाएं अभिभावकों और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ हैं। हम समझते हैं कि समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों के जीवित बचने की संभावना कम होती हैै।

मैक्स अस्पताल ने जिंदा बच्चे को कर दिया था मृत घोषित 
उल्लेखनीय है कि गत 30 नवंबर को आशीष कुमार की पत्नी ने शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में जुड़वां बच्चों (एक लड़का और एक लड़की) को जन्म दिया था जो समय से पूर्व पैदा हुए थे। अभिभावकों ने बताया कि उन्हें अस्पताल ने सूचित किया कि दोनों बच्चे मृत पैदा हुए थे। अस्पताल ने इन नवजातों को एक पॉलीथिन बैग में डालकर उन्हें सौंप दिया था। पुलिस ने बताया कि अंतिम संस्कार से कुछ देर पहले परिवार को पता चला कि एक बच्चे की सांसें चल रही हैं। 

अस्पताल का लाइसेंस हो सकता है रद्द
दिल्ली सरकार द्वारा इस मामले की जांच के लिए गठित पैनल ने कल मैक्स अस्पताल को नवजात शिशुओं से संबंधित निर्धारित चिकित्सकीय मानकों का पालन न करने का दोषी पाया था। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दो दिसंबर को कहा था कि अगर जांच में अस्पताल को चिकित्सकीय लापरवाही बरतने का दोषी पाया गया तो उसका लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!