राम रहीम विवाद पर दुनिया की पैनी नजर, पाक में भी बटोरी सुर्खियां

Monday, August 28, 2017 12:53 PM
राम रहीम विवाद पर दुनिया की पैनी नजर, पाक में भी बटोरी सुर्खियां

इस्लामाबादः राम रहीम विवाद जहां भारत में इस समय प्रमुख मुद्दा बना हुआ है वही यह पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोर रहा है । सीबीआई अदालत द्वारा शिष्या से यौन शोषण के आरोप में बाबा गुरमीत राम रहीम को दोषी करार देने के बाद पंजाब और हरियाणा के घटनाक्रम पर पूरी दुनिया के मीडिया ने पैनी निगाह बनाए रखी है। विश्व के बड़े अखबारों ने आरोपी को दुराचारी गुरु अपराध का गुरु कहकर संबोधित किया। 

पाकिस्तान में इस खबर को सभी अखबारों ने प्रमुखता से प्रकाशित किया। डॉन ने राम-रहीम को दुराचारी गुरु बताते हुए सड़कों पर चले उत्पात को बड़ी तस्वीर के साथ प्रकाशित किया।  न्यूयॉर्क टाइम्स ने लिखा कि अपराध के आरोपों के बावजूद भारत में गुरुओं का दबाव बरकरार है। अखबार ने पंचकुला की विशेष अदालत के फैसले के बाद गुरमीत के अनुयायियों द्वारा सड़कों पर जो उत्पात मचाया गया उससे लगता है कि वह अपराध का गुरु है। 
PunjabKesari
जर्मनी की रेडियो सेवा दाइचे वेले ने फैसले के बाद सड़कों पर चले हिंसात्मक घटनाक्रम के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को पूरी तरह से जिम्मेदार ठहराया। उसने कहा कि मुश्किल हालात में ही नेतृत्व की असली परीक्षा होती है और जिस तरह से हिंसा हुई उससे स्पष्ट पता लगता है कि हरियाणा के सीएम एक नाकाम प्रशासक हैं।

लंदन के अखबार इंडिपेंडेंट ने भी दुराचारी गुरु के उपद्रवी समर्थकों पर नियंत्रण न कर पाने के लिए खट्टर को कटघरे में खड़ा किया। उर्दू अखबार नवा-ए-वक्त ने डेरा आश्रम के लिए असभ्य भाषा का इस्तेमाल भी किया। 

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने शिन्हुआ एजैंसी के हवाले से दुराचारी गुरू पर विशेष अदालत के फैसले के बाद पंजाब-हरियाणा में मचे हिंसा के तांडव को अपनी प्रमुख खबरों में स्थान दिया है। उसने लिखा कि बारूद तो पहले ही जमा हो चुका था, सिर्फ चिंगारी की देरी थी जो फैसले के बाद मिल गई। ऑस्ट्रेलिया ऑनलाइन ने लिखा है कि दुष्कर्म का एक आरोपी यदि 200 से अधिक ट्रेने रद करा दे तो इससे सिर्फ प्रशासनिक व्यवस्था के पंगु होने के ही संकेत मिलते हैं।

 
 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन