सुलह के प्रयास तेज: न्यायमूर्ति चेलमेश्वर से मिला बार काउंसिल का प्रतिनिधिमंडल

Sunday, January 14, 2018 9:37 AM
सुलह के प्रयास तेज: न्यायमूर्ति चेलमेश्वर से मिला बार काउंसिल का प्रतिनिधिमंडल

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ चार वरिष्ठ न्यायाधीशों द्वारा लगाए गए आरोपों से उपजे विवाद को सुलझाने के प्रयास तेज करते हुए बार कांउसिल के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज न्यायूमूर्ति जे.चेलमेश्वर से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे बार काउंसिल आफ इंडिया के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने संवाददाताओं को बताया कि प्रतिनिधिमंडल नाराज चल रहे सभी चारों न्यायाधीशों से बारी बारी से मुलाकात करेेगा और सुलह के रास्ते तलाशेगा। बाद में मुख्य न्यायाधीश से भी मुलाकात की जाएगी। न्यायमूर्ति मनन मिश्रा ने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने सुलह की कोशिशों के तहत आज सबसे पहले वरिष्ठतम न्यायधीश न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि सभी न्यायाधीशों से मिलने के बाद सुलह के प्रयासों का जो भी नतीजा निकलेगा उसके बारे में प्रेस को पूरी जानकारी दी जाएगी।
 

7 सदस्यीय  प्रतिनिधिमंडल का गठन
शनिवार शाम को विवाद को सुलझाने के लिए एक बैठक के बाद बार काउंसिल की ओर से न्यायधीशों से बातचीत के लिए सात सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का गठन किया गया था और उसे चार शीर्ष न्यायाधीशों की ओर से लगाए गए आरोपों के मद्देनजर सभी से बातचीत कर मामले को सुलझाने की जिम्मेदारी दी गई थी। आजाद भारत के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के चार मौजूदा न्यायाधीशों ने शुक्रवार को अपना कामकाज छोड़कर आनन-फानन में प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए थे।

न्यायमूर्ति जस्ती चेलमेश्वर के तुगलक रोड स्थित आवास पर बुलाए गए इस संवाददाता सम्मेलन में चारों न्यायाधीशों ने सर्वोच्च अदालत की कार्यप्रणाली में प्रशासनिक व्यवस्थाओं का पालन नहीं किए जाने और सुनवाई के लिए महत्वपूर्ण मुकदमों के आवंटन में मनमाना रवैया अपनाने का आरोप लगाया। इस प्रेस कांफ्रेंस में न्यायमूर्ति चेलमेश्वर के साथ न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ भी उपस्थित थे। ये सभी न्यायाधीश मामलों की सुनवाई बीच में ही छोड़कर अदालत कक्ष से बाहर आ गए थे और मीडिया के माध्यम से अपनी नाराजगी और शिकायत देश के समक्ष रखी। मीडिया को मुख्य रूप से न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने संबोधित किया था।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन