जानिए बजट पर किसने क्या कहा, पढ़ें पहली प्रतिक्रिया

Thursday, February 1, 2018 5:49 PM
जानिए बजट पर किसने क्या कहा, पढ़ें पहली प्रतिक्रिया

नई दिल्ली: मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज संसद में पेश किए गए आम बजट को सर्वसमावेशी बताते हुए कहा कि इसमें आम आदमी से लेकर समूची अर्थव्यवस्था के लाभ के लिये उपाय किए गए हैं।  
PunjabKesari
लोकसभा में बजट पेश होने के बाद संसद भवन परिसर में जावड़ेकर ने संवाददाताओं से कहा कि बजट में शिक्षा, रोजगार, कृषि और बाजार सहित सभी क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया गया है। जावड़ेकर ने कहा कि शिक्षा में बेहतर परिवर्तन के लिये इस बजट ने पांच सूत्री रोडमैप तैयार कर दिया है।  उन्होंने कहा कि इसमें ब्लैक बोर्ड से डिजिटल बोर्ड की ओर बढऩा, सर्वशिक्षा अभियान का दायरा आठवीं कक्षा से बढ़ाकर 12वीं कक्षा तक करना, शिक्षा के बजट में दस फीसदी वृद्धि करना, शिक्षा के क्षेत्र में आधारभूत ढांचे के विकास के लिये एक लाख करोड़ रुपये की राशि का आवंटन और पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर प्रधानमंत्री शोध फेलोशिप शुरू करने जैसी पहल की गयी है। 
PunjabKesari
अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा ‘‘यह बजट नहीं बल्कि देश के विकास का सर्वसमावेशी और सर्वस्पर्शी गजट है।’’ उन्होंने कहा कि यह गांव, गरीब, किसान, मध्यमवर्ग और नौजवानों के सशक्तिकरण के संकल्प वाला बजट है। यह देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती तो देगा ही साथ ही भ्रष्टाचार मुक्त भारत के सपने को पूरा करने वाला बजट भी साबित होगा। 
PunjabKesari
पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली ने बजट को निराशाजनक करार देते हुए कहा कि मोदी सरकार के चार वर्ष पूरे हो रहे हैं, लेकिन जनता के लिए ‘अच्छे दिन’ नहीं आये। इस बजट से लोगों के जीवनस्तर में सुधार की कोई आशा नहीं है। यह जनविरोधी बजट है। आयकर स्लैब में कोई बदलाव न किये जाने से मध्यम वर्ग निराश हुआ है। बजट में जनता को अंधेरे में रखने का प्रयास किया गया है। बजट में ऐसा कुछ नहीं किया गया है, जिससे बेरोजगारों और किसानों को तत्काल राहत मिलने की उम्मीद हो। 
PunjabKesari
पूर्व केंद्रीय नेता शशि थरूर ने कहा कि बजट में कुछ भी नया नहीं है। पुरानी कुछ योजनाओं को नए रूप में पेश कर दिया गया है। उन्होंने कहा, Þकृषि क्षेत्र की हालत बहुत खराब है, जिसे देखते हुए वित्त मंत्री ने कृषि उपजों का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत से डेढ़ गुना करने का बजट में एलान तो किया है, लेकिन देखना होगा कि इसका कितना लाभ किसानों को मिल पाता है। मध्यम वर्ग के लिए बजट में कुछ नहीं किया गया है। युवा बहुत परेशान हैं, लेकिन बेरोजगारी की समस्या की ओर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया गया।PunjabKesari
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि बजट में सिर्फ लोकलुभावन चुनावी वादे हैं और मंहगाई कम करने तथा रोजगार सृजन का कोई जिक्र नहीं है। वेतनभोगियों को कोई राहत न दिये जाने की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि जब करदाताओं की संख्या बढ़ी है तो उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए रियायत दी जानी चाहिए थी। 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन