अपने आज को खोने वाला, गंवा देता है जीवन की हर खुशी

Tuesday, January 9, 2018 2:23 PM
अपने आज को खोने वाला, गंवा देता है जीवन की हर खुशी

समय को भूतकाल, वर्तमान और भविष्यकाल में बांटा गया है। मगर समय का सबसे बड़ा सत्य वर्तमान ही है। कभी भूतकाल भी वर्तमान था और कभी भविष्यकाल भी आएगा। इसलिए हर स्थिति में वर्तमान तो सबसे महत्वपूर्ण है। अगर आप यह नहीं जान पाते हैं कि वर्तमान में खुश कैसे रहना है तो आप कभी भी खुश नहीं रह सकते हैं। अगर आपके मन से यह आवाज आती है कि आप भविष्य में खुश रहेंगे तो इसका एक मतलब तो यह भी है कि आप वर्तमान में खुश नहीं हैं। आपको वर्तमान में खुश रहना सीखना होगा। अपनी खुशी को आपको हर हाल में सर्वोच्च महत्व देना चाहिए। आपको आज में खुशी तलाशनी चाहिए न कि यह सोचने में अपनी ऊर्जा गंवानी चाहिए कि आप आगे चलकर क्या होंगे। इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप बिना किसी योजना के काम करें। योजना आपके पास होनी चाहिए लेकिन योजना और ‘याली पुलाव’ के बीच फर्क है।

 

आपको आज मिलने वाली खुशी को जीना चाहिए। खुश रहिए और खुशी के साथ अपने भविष्य के लक्ष्यों को हासिल कीजिए। अगर आप आज में जीने लगते हैं तो फिर आपका काम भी आपको तनावपूर्ण नहीं, बल्कि रोचक लगेगा और जिंदगी भी एक आनंद यात्रा। तब आप आज में ही खुशी पाने लगेंगे और भविष्य में खुशी मिलने का इंतजार नहीं करेंगे। 

 

जब आप इच्छाओं और कामनाओं के साथ जीते हैं तो आज की खुशी को नहीं देख पाते हैं लेकिन अगर आप छोटी-छोटी चीजों में आनंद देखते हैं तो जीवन को अद्भुत बनाते हैं। कई लोग इस आकांक्षा के साथ धन का संचय करते रहते हैं कि एक उम्र में जाकर वे उस धन का पूरा उपभोग करेंगे लेकिन तब शरीर साथ नहीं देता है। लेकिन तब दौड़ते नहीं बनता है और डॉक्टर मीठा खाने से मना कर देता है। तब आप मीठे फल नहीं खा सकते हैं। तब शरीर गोलियों के सहारे हो जाता है और ज्यादा मेहनत वाले काम नहीं करते बनते। 

 

इसलिए जरूरी है कि जब आप स्वस्थ हैं तब जीवन में संतुलन बनाएं। सारी चीजों का आनंद उठाएं। अपने महत्वपूर्ण रिश्तों के लिए वक्त निकालें। अगर आप यह सोचते हैं कि जब आपके पास पर्याप्त वक्त होगा तब आप जरूरी लोगों से मिलेंगे तो याद रखिए कि ऐसा वक्त कभी नहीं आएगा। ऐसे वक्त के इंतजार में जो लोग आज को खोते हैं वे जीवन की हर खुशी को गंवा देते हैं।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन