जाने क्या है ASEAN और क्यों है इसका महत्व

Monday, November 13, 2017 6:16 PM
जाने क्या है ASEAN और क्यों है इसका महत्व

मनीलाः आसियान’ (ASEAN-Association of South East Asian Nations) दक्षिणी एशियाई राष्ट्रों का एक क्षेत्रीय संगठन है जिसकी स्थापना 8 अगस्त, 1967 को बैंकॉक घोषणा के अंतर्गत हुआ था। तब इस संगठन के 5 सदस्य थे-इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर तथा थाईलैंड। ब्रुनेई  वर्ष 1984 में, वियतनाम वर्ष 1995 में, लाओस तथा म्यांमार वर्ष 1997 में और कंबोडिया वर्ष 1999 में आसियान के सदस्य देश बने। इस समय आसियान के कुल 10 सदस्य देश हैं जिसका मुख्यालय इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में है।

इन 10 देशों में ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनामके नाम शामिल है। इसकी एशियन रीजनल फोरम (एआरएफ) में अमरीका, रूस, भारत, चीन, जापान और नॉर्थ कोरिया समेत 27 सदस्य हैं। 1994 में आसियान ने एआरएफ बनाया, जिसका मकसद सिक्योरिटी को बढ़ावा देना था।

आसियान यूरोपीय संघ की भांति यूरोपीय एकीकरण का उदाहरण तो नहीं है परंतु इसे आर्थिक सहयोग का संगठन मात्र कहना भी सही नहीं है। वस्तुतः आसियान ‘सहयोग’ से कुछ अधिक परंतु ‘एकीकरण’ से कुछ कम-सा संगठन है। आसियान, क्षेत्रीय सुरक्षा, आर्थिक सहयोग तथा सामाजिक सांस्कृतिक संघ का एक समुदाय है जिसके तीन मुख्य स्तंभ हैं।

आसियान राजनीतिक सुरक्षा समुदाय
आसियान आर्थिक समुदाय
आसियान सामाजिक-सांस्कृतिक समुदाय

इन तीनों स्तंभों में से ‘आसियान आर्थिक समुदाय’ के गठन हेतु सर्वप्रथम वर्ष 2007 में आसियान के 12वें शिखर सम्मेलन में आसियान सदस्यों द्वारा वर्ष 2015 तक आसियान आर्थिक समुदाय की स्थापना में तेजी लाने के लिए मजबूत प्रतिबद्धता के साथ ‘सेबू’ घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर किए गए। आसियान का 27वां शिखर सम्मेलन जो 18-20 नवंबर, 2015 को मलेशिया की राजधानी कुआलालम्पुर में आयोजित हुआ, के दौरान आसियान सदस्य देशों ने एकीकृत आर्थिक समुदाय को 31 दिसंबर, 2015 तक अस्तित्व में लाने की घोषणा करते हुए इसकी औपचारिक स्थापना से संबंधित घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर किए थे। 31 दिसंबर, 2015 को यह ‘आसियान (एकीकृत) आर्थिक समुदाय’ अपने अस्तित्व में आ गया जिससे संबंधित तथ्य निम्नलिखित हैं ।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!