भारत - पाक के बीच परंपरागत युद्ध के आसार नहीं : पाक विशेषज्ञ

Wednesday, December 6, 2017 10:46 PM
भारत - पाक के बीच परंपरागत युद्ध के आसार नहीं : पाक विशेषज्ञ

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के एक सामरिक विशेषज्ञ ने बुधवार को कहा कि इस्लामाबाद की मजबूत परमाणु क्षमता और उसकी ‘फुल स्पेक्ट्रम डिटेरेंस’ की नीति के चलते भारत और पाकिस्तान के बीच परंपरागत युद्ध के आसार नहीं हैं।

गौरतलब है कि ‘फुल स्पेक्ट्रम डिटेरेंस’ की नीति उसे परंपरागत धमकियों से परमाणु हथियारों के जरिए निपटने में लचीलापन प्रदान करता है। नेशनल कमान ऑथरिटी के सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) खालिद किदवई ने कहा कि परंपरागत युद्ध पीछे रह गया है। भारत समय - समय पर सर्जिकल स्ट्राइक सहित नियंत्रण रेखा पर जितना माहौल गर्म रखना चाहता हो, उसका किसी भी मामले में पाकिस्तान मजबूत जवाब देगा।

दक्षिण एशिया में रक्षा, प्रतिरोध और स्थिरता विषय पर यहां छठे कार्यशाला में किदवई ने परंपरागत युद्ध में कमी आने की संभावना का श्रेय पाकिस्तान की परमाणु क्षमता और ‘फुल स्पेक्ट्रम डिटेरेंस’ को दिया।

उन्होंने कहा कि एक दूसरे की तबाही तय होने के चलते परंपरागत युद्ध होने की संभावना नहीं है और इसलिए संघर्ष अपरंपरागत स्तर पर चला गया है। फिलहाल, इसे हमारी पश्चिमी सीमाओं पर पूरी तरह से होते हुए देखा जा सकता है। किदवई ने ‘फुल स्पेक्ट्रम डिटेरेंस’ नीति की विशेषताओं के बारे में भी बताया, जो भारत के हर क्षेत्र में मार करने में सक्षम परमाणु हथियारों को रखने की बात करता है। इसके तहत लक्ष्य चुनने की स्वतंत्रता है।

पाकिस्तान की परमाणु क्षमता के बारे में उन्होंने कहा कि देश परमाणु क्षेत्र में आत्मनिर्भर है लेकिन इसका परमाणु कार्यक्रम दुनिया में सबसे तेजी से बढऩे वाला नहीं है। उन्होंने क्षेत्र में विवादों के हल के लिए फिर से अपील करते हुए कहा कि जब तक यह नहीं होगा, क्षेत्र रणनीतिक स्थिरता और अस्थिरता के बीच अटका रहेगा। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!