फ्लाईओवर पर स्टंट करते अचानक 50 फुट नीचे गिरे दो युवक, एक की मौत

Wednesday, December 6, 2017 1:14 PM
फ्लाईओवर पर स्टंट करते अचानक 50 फुट नीचे गिरे दो युवक, एक की मौत

जहांगीर पुरी: राजधानी में एक बार फिर तेज रफ्तार ने एक नाबालिग की जान ले ली। जानकारी मुताबिक दो नाबालिग मुकुंदपुर निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर तेज रफ्तार में बाइक से स्टंट दिखा रहे थे। तभी संतुलन बिगड़ा और दोनों फ्लाईओवर 50 फुट नीचे गिर गए । दोनों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने नाबालिग को मृत घोषित कर उसके साथी की हालत गंभीर बताई, जिसको ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। पुलिस मामला दर्ज कर जांच कर रही है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। पुलिस ने बुलेट जब्त कर ली है। पुलिस ट्रामा सेंटर में भर्ती युवक के बयान लेने की कोशिश कर रही है। हादसे के वक्त दोनों ने हेलमेट नहीं पहन रखे थे। 

अपने घर से बुलेट लेकर निकला था कर्ण दत्त
जानकारी के मुताबिक मृतक नाबालिग की पहचान कर्ण दत्त उर्फ कन्नू के रूप में हुई है, जबकि घायल की पहचान विकास के रूप में हुई है। दोनों मुकुंदपुर इलाके के रहने वाले हैं। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार सुबह कर्ण दत्त अपने घर से बुलेट लेकर निकला था। उसने पड़ोस में ही रह रहे अपने दोस्त विकास को भी बुला लिया था। दोनों ने हेलमेट नहीं पहने थे। कर्ण के घरवालों ने भी हेलमेट पहनने के लिए उसे नहीं कहा था। बुलेट कर्ण दत्त चला रहा था। दोनों इलाके में ही बन रहे निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर पहुंचे। इस फ्लाईओवर पर भी काम चल रहा है। यह वाहनों के लिए नहीं खोला गया है। 

खुली सड़क पर करते हैं स्टंट
पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर मामलों में बाइक सवार देर रात सड़कों पर निकलते हैं। इनकी तादाद 50 से 200 के बीच होती है। आमतौर पर बाइक सवार इंडिया गेट और आसपास के इलाके में उत्पात मचाते हैं क्योंकि इस इलाके में सड़कें बेहतर हैं और बड़ी गाडिय़ां नहीं चलती हैं। बाइक सवारों की दूसरी पसंद नोएडा एक्सप्रेस वे है। यानी जहां पर खाली सड़क दिखाई देती है। वो सड़क स्टंटबाजों की पहली पसंद बन जाती है। जहां पर अपनी जान हाथ में रखकर नौजवान बाइकों पर स्टंट कर सकें, जिसमें उनकी जानें जा रही है। जानकारों का कहना है कि सड़कों पर हुड़दंग मचा रहे इन नौजवानों को रोकने के लिए देश में कोई सख्त कानून नहीं है। यही वजह है कि ये नौजवान बिना किसी डर के सड़कों पर उत्पात मचाते हैं और पकड़े जाने पर आसानी से छूट जाते हैं। अमूमन पुलिस भी नौजवानों से सख्ती से निपटने में परहेज करती है। सजा भी ज्यादा नहीं है, इससे बाइकरों में पुलिस का डर नहीं है।

जानलेवा स्टंट
सॢकल व्हील- इसमें बाइकर मोटरसाइकिल के अगले पहिये को हवा में उठाने के बाद बाइक को गोल घेरे में घुमाते हैं।
नो-हैंड व्हीली- बाइकर न केवल चलती मोटरसाइकिल के अगले पहिये को हवा में उठा देता है बल्कि दोनों हैंडल पर से हाथ भी हटा लेता है। यह एक बेहद खतरनाक स्टंट माना जाता है।
बेसिक व्हीली- अगले पहिये को बाइक रोकते हुए हवा में उठा देना।
हाफ ओल्ड स्कूल व्हीली- अपने एक पांव को पीछे मोड़कर सीट पर रख लेने का स्टंट।
नैक-नैक व्हीली- चलती बाइक की सीट पर पैर रखते हुए खड़े हो जाना। इसमें बायां पांव आगे रहता है और दायां पीछे।
कैन-कैन व्हीली- नैक-नैक के उलट, इसमें दायां पांव सीट पर आगे रहता है और बायां पीछे।
क्राइस्ट- बाइक सवार सीट पर खड़े होकर अपने दोनों हाथ हवा में फैला लेता है।
लीप ऑफ डेथ- पहले चलती हुई बाइक की सीट पर खड़े हो जाना और फिर उसी रफ्तार के बीच बाइक की टंकी पर कूदना।
फ्लैमिंगो- चलती बाइक की सीट पर एक पैर के सहारे खड़े होना।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!