ज्वालमुखी में डूबा महाद्वीप फिर मिला

Sunday, March 5, 2017 3:51 PM

मेलबर्नः  Ferdinandea नामक एक महाद्वीप  Mediterranean Sea के एक बाहरी हिस्से में स्थित है। ये जगह किसी भी तरह के जल सेना अभ्यास के लिए उपरोक्त है। यह  महाद्वीप 4 देशों में एक रस्सी की तरह महसूस होता है। इस महाद्वीप की खोज समय पहले ही की गई थी पर लगभग 6 महीने में ही डूब जानेवाला  महाद्वीप अब एक बार फिर से अपने प्रभाव के साथ नजर आ रहा है।

Ferdinandea महाद्वीप की शुरुआत 1831 जुलाई के महीने में हुआ था। तब यहां मात्र सिर्फ और सिर्फ एक छोटा सा ज्वालामुखी था। थोड़े दिन में ही एक बड़ा सा खम्बे की आकार का भयानक ज्वालमुखी निकल जिसने इस महाद्वीप को डूबा दिया। ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब ये महाद्वीप बार-बार नजर न आया हो 1863 और 1987 में भी इसके कुछ अंश नजर आए थे। 17 दिसम्बर 1831 यह महाद्वीप पूरी तरह ही लुप्त हो गया था। 20वीं सदी के दौरान, भूविज्ञानिकों नें प्लेट टैक्टॉनिक सिद्धांत को स्वीकार किया है जिसके अनुसार महाद्वीप पृथ्वी के उपरी सतह पर सरकते हैं, जिसे कॉन्टिनेन्टल ड्रीफ़्ट कहते है।

 


 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !