असांजे मामले की जांच धीमी, इक्वाडोर ने स्वीडन को माना दोषी

Monday, May 15, 2017 12:35 PM
असांजे मामले की जांच धीमी,  इक्वाडोर ने स्वीडन को माना दोषी

लंदन/मेलबर्नः विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे पर चल रहे मामले की जांच बहुत धीमी रफ़्तार में हो रही है।यह मामला स्वीडन में चल रहा है और उसकी प्रगति की रफ़्तार बहुत चिंताजनक है। रविवार को इक्वाडोर की सरकार ने यह चिंता व्यक्त की। इक्वाडोर की ओर से जारी किए गए एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि स्वीडन की सरकार जूलियन असांज पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच नहीं करवा पाई है। यह मामला सात साल पुराना, यानी 2010 का है।मामले में जांच की इतनी धीमी रफ़्तार स्वीडन सरकार की एक बड़ी विफलता है।

जूलियन असांजे बीते 5 साल से इक्वाडोर की शरण में हैं और उन्हें ब्रिटेन स्थित इक्वाडोर के दूतावास तक ही सीमित करके रखा गया है।असांजे को डर है कि अगर उन्होंने दूतावास की इमारत से निकलने की कोशिश की, तो उन्हें एक विदेशी अपराधी के तौर पर अमरीका को सौंप दिया जाएगा। ऑस्ट्रेलियाई कंप्यूटर प्रोग्रामर जूलियन असांजे इस बात से चिंतित हैं कि उन्होंने अफ़गानिस्तान और इराक़ युद्ध से संबंधित क़रीब 500,000 गुप्त सैन्य फाइलों की विकीलीक्स के ज़रिए रिलीज़ कर दिया था, जिसके चलते अमरीका उनकी गिरफ़्तारी की मांग कर सकता है। 

यौन उत्पीड़न के सभी आरोपों को असांजे शुरुआत से ही बेबुनियाद बताते आए हैं। साल 2010 में जब असांजे स्टॉकहोम में एक लैक्चर देने के लिए गए थे, तो उनपर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था। बीते महीने, अमरीकी अटॉर्नी जनरल जेफ़ सेशंस ने कहा था कि असांज को गिरफ़्तार करना उनकी "प्राथमिकता" थी. हालांकि, असांज पर लगे आरोपों के बारे में अमेरिकी न्याय विभाग से उन्हें कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई थी। ब्रिटिश पुलिस का कहना है कि अगर असांज लंदन में इक्वाडोर के दूतावास को छोड़ दें, तो उन्हें तुरंत गिरफ़्तार कर लिया जाएगा, लेकिन दूतावास के भीतर ब्रिटेन के अधिकारी की पहुंच नहीं है।

 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !