सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता का सम्मान करना चाहिए : शी

Sunday, May 14, 2017 4:24 PM
सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता का सम्मान करना चाहिए : शी

बीजिंग: चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने आज कहा कि सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता और भूभागीय एकता का सम्मान करना चाहिए। यह बात शी ने चीन के ‘बेल्ट एंड रोड फोरम’ सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कही। 

चीनी राष्ट्रपति ने भाषण में कही ये बात 
भारत ने पाक अधिकृत कश्मीर से हो कर गुजरने वाले इस विवादित आर्थिक गलियारे को लेकर चिंताओं के चलते इस फोरम का बहिष्कार किया है। अपने उद्घाटन भाषण में चीन के दृष्टिकोण का जिक्र करते हुए 63 वर्षीय शी ने प्राचीन रेशम मार्ग का संदर्भ दिया और ‘‘सिंधु तथा गंगा सभ्यताओं सहित’’ विभिन्न सभ्यताओं के महत्व पर अपनी बात रखी। चीन भारत आर्थिक गलियारे(सीपीईसी)को लेकर भारत की आपत्तियों का संदर्भ दिए बिना शी ने कहा ‘‘सभी देशों को एक दूसरे की संप्रभुता, मर्यादा और भूभागीय एकता का, एक दूसरे के विकास के रास्ते का, सामाजिक प्रणालियों का और एक दूसरे के प्रमुख हितों तथा बड़ी चिंताओं का सम्मान करना चाहिए।’’ 


OBOR में शामिल हुए 29 देशों के नेता 
भारत ने करीब 50 अरब डालर से अधिक की लागत वाले सीपीईसी को लेकर अपनी संप्रभुता संबंधी चिंताओं के चलते सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया।यह सीपीईसी पाक अधिकृत कश्मीर से हो कर गुजरेगा। दो दिवसीय इस सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में कुछ भारतीय विद्वानों ने हिस्सा लिया। बीजिंग में हो रहे इस सम्मेलन में 29 देशों के नेता शामिल हुए। शी ने कहा कि ‘बेल्ट एंड रोड’ पहल सदी की परियोजना है जिससे पूरी दुनिया के लोगों को लाभ होगा। सीपीईसी के हिस्से वाले ‘बेल्ट एंड रोड’ पहल में हिस्सा ले रहे देशों का ‘‘छोटा समूह’’ बनाने की कोशिश से इंकार करते हुए शी ने कहा कि चीन की योजना एेसी मार्ग बनाने की है जो शांति के लिए हो और एशिया, यूरोप तथा अफ्रीका के ज्यादातर हिस्सों से उनके देश को जोड़े। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!