भारत में चाइनीज निवेश पड़ा कमजोर

Monday, March 20, 2017 7:29 PM
भारत में चाइनीज निवेश पड़ा कमजोर

नई दिल्लीः मेक इन इंडिया अभियान के शुभारंभ के बाद से चीनी कंपनियों ने भारत में कई क्षेत्रों में निवेश करने के लिए महत्वपूर्ण रुचि दिखाई। डीआईपीपी/आर.बी.आई. के आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2000 और दिसंबर 2016 के बीच चीन से संचयी एफडीआई प्रवाह 9,933.87 करोड़ रुपए था। संचयी एफडीआई इक्विटी का प्रवाह 2014 के बाद से 77.9 फीसदी नीचे हैं, जैसा कि नीचे बताया गया है:

2014-2015  :   3,066.24 करोड़ रुपए
2015-2016  :   2,975.14 करोड़ रुपए  
2016-2017 (दिसंबर 2016 तक) : 1,696.96 करोड़ रुपए

बीजिंग में 30 जून, 2014 को भारत के औद्योगिक सहयोग पर चीन के वाणिज्य मंत्रालय और भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!