कुछ भी खाने से पहले क्यों लगाना चाहिए भगवान को भोग

Monday, April 24, 2017 3:02 PM
कुछ भी खाने से पहले क्यों लगाना चाहिए भगवान को भोग

श्रीगीता में लिखा है, कुछ भी खाने से पहले भगवान को भोग लगाएं। भगवान श्रीकृष्ण के बिना हमारा जीवन लगभग नीरस, 84 लाख योनियों में भटकता हुआ व दुःखों से भरपूर है। इसका दूसरा पहलू यह है कि श्रीकृष्ण हमारे सेव्य व पूज्य हैं, यहां तक कि हमारे जीवन का चरम उद्देश्य उनकी नित्य सेवा प्राप्त करना है। चूंकि वे हमारे लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं इसलिए उन्हें अपनी क्रियायों से हर समय प्रसन्न करना ही हमारा स्वार्थ है व परमार्थ है। भगवान को भोग लगाना, भगवान कि भक्ति का अंग तो है ही, साथ ही वह अपने प्रिय को प्रसन्न करने की व अपने प्रिय को सम्मान देने की चेष्टा भी है। ठीक, उसी प्रकार जैसे हम घर में कोई भी नया कार्य करने से पहले या भोजन करने से पहले अपने घर आए मेहमान को अथवा परिवार के पूज्य पिता-माता व दादा-दादी आदि को भोजन के लिए पूछते हैं।


श्रीकृष्ण कर्णामृत ग्रन्थ के अनुसार भगवान व भगवान का नाम अभिन्न होता है। यदि हम ऐसी परिस्थिति में हैंं, जहां हम भगवान को भोग नहीं लगा सकते, शादी, आफिस , स्कूल, बर्थडे पार्टी अथवा कोई आफिस में अचानक हमें कुछ खाने के लिए देता है, तब ऐसी स्थिति में हम अपने प्रिय भगवान को स्मरण करेंगे, मन ही मन उनका नाम अथवा हरे कृष्ण महामन्त्र बोलेंगे तथा इस बात का ध्यान रखेंगे कि जो मैं खा रहा हूं, इसको खाना भगवान को पसन्द है कि नहीं अर्थात् हम भगवान को भोग लगाकर व बिना भोग लगाए मांस, मदिरा, प्याज़, लहुसन, इत्यादि नहीं खाएंगे। हमारे प्रियतम, हमारे सर्वस्व जो भगवान श्रीकृष्ण हैं, उन्हें पसन्द नहीं।


कहने का मतलब जो फल, मिठाई व भोजन इत्यादि भगवान को भोग लग सकता है, उन वस्तुओं को हम भगवान का स्मरण करते हुए खा सकते हैंं। वैष्णव तो ये भी मानते हैं की कुछ भी खाने से पहले तीन बार श्रीविष्णु, श्रीविष्णु, श्रीविष्णु नाम का उच्चारण करना चाहिए। ऐसा करने से खाने वाली वस्तु भगवान के अर्पण हो जाती है।

श्री चैतन्य गौड़िया मठ की ओर से
श्री भक्ति विचार विष्णु जी महाराज
bhakti.vichar.vishnu@gmail.com



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !