विदुर नीति: इन 4 बातों पर करें अमल, सफलता चूमेगी कदम

Tuesday, March 28, 2017 9:31 AM
विदुर नीति: इन 4 बातों पर करें अमल, सफलता चूमेगी कदम

महाभारत में प्रत्येक व्यक्ति महान अौर अद्भुत था। इसी प्रकार विदुर भी परम ज्ञानी और महान इंसान थे। विदुर हस्तिनापुर राज्‍य के शीर्ष स्‍तंभों में से एक अत्‍यंत नीतिपूर्ण, न्‍यायोचित सलाह देने वाले माने गए है। उनकी नीतियां जितनी उस समय में उपयोगी थी, उतनी ही आज भी हैं। अगर इन नीतियों में अमल किया जाए तो व्यक्ति की हर परेशानियों का हल निकल सकता है। विदुर ने कुछ ऐसी बातों के बारे में बताया है जिन पर अमल करके कार्य अौर कला में सफलता प्राप्त की जा सकती है। 

निश्चित्य य: प्रक्रमते नान्तर्वसति कर्मण: | 
अवन्ध्यकालो वश्यात्मा स वै पण्डित: उच्यते | |


किसी कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए उसे शुरू करने से पूर्व उसके बारे में पूर्ण तैयारी करनी चाहिए। इसके साथ ही कार्य को सफल करने का भी निश्चय कर लें।

किसी भी कार्य को शुरू करने पर उसे बीच में नहीं छोड़ना चाहिए। यह सफलता में रुकावट होती है। चाहे कारण कोई भी क्यों न हो कार्य को पूर्ण किए बिना उसे छोड़ना नहीं चाहिए। 

जो व्यक्ति समय को व्यर्थ करता है उसे जीवन में कभी भी सफलता नहीं मिलती। किसी भी कार्य में सफलता पाने के लिए किसी अन्य गतिविधि में समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। 

विदुर नीति के अनुसार मन अौर इच्छाअों को वश में रखना चाहिए। जो लोग ऐसा नहीं कर पाते वह कार्य में सफलता हासिल नहीं कर सकते। सफलता प्राप्ति हेतु इच्छाअों को वश में रखकर काम के प्रति समर्पित होना चाहिए। 
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !