ये पौधे बनते हैं नुक्सान का कारण आज ही हटाएं

Wednesday, February 7, 2018 12:33 PM
ये पौधे बनते हैं नुक्सान का कारण आज ही हटाएं

वास्तुशास्त्र में एेसे कई पेड़-पौधों के बारे में बताया गया है, जिससे घर के दोष को खत्म करने में सहायता होती है। लेकिन इन्हीं पौधों को यदि गलत दिशा में रख दिया जाए तो इनका उल्टा प्रभाव पढ़ने लगता है। इसलिए बहुत जरूरी होता है कि घर आदि किसी भी जगह पर पौधों को लगाने से पहले सही दिशा निर्धारित कर लेनी चाहिए। तो आईए जानें एेसे कुछ पौधों के बारे में जिन्हें घर में सही जगह व सही दिशा में रखने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।

बरगद और पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है। परंतु इस पेड़ को कभी घर के भीतर नहीं लगाना चाहिए। इससे अशुभ फल प्राप्त होते हैं। इसलिए इसे हमेशा मंदिरों में ही लगा पाया जाता है।


तुलसी का पौधा घर के दक्षिणी भाग में नहीं लगाना चाहिए, घर के दक्षिणी भाग में लगा हुआ तुलसी का पौधा फायदे के बदले नुकसान का कारण बन सकता है।


ऊंचे पौधों को घर की दक्षिण या पश्चिम दिशा में लगाना चाहिए। ऐसी जगह जहां इन्हें सूरज की भरपूर रोशनी मिले और ध्यान रखें कि ये पौधे घर में रहने वालों के रास्ता में न आएं।


छोटे साइज के पौधों को पूर्व या उत्तर दिशा में लगाना बेहतर होता है। वहीं, इन्हें उत्तर-पूर्व दिशा में लगाने पर अशुभ फल प्राप्त होते हैं।


दूधिया पेड़-पौधों को घर के आंगन में लगाने से बचना चाहिए। इनके घर में होने से परिवार के सदस्यों की सेहत पर बुरा असर पड़ता है।


लताओँ वाले पौधों को घर के मुख्य द्वार पर या बालकनी में लगा सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि बेल वहां की दीवार से ऊंची न चली जाएं। बेल बड़ी हो जाने पर उसे दूसरी दिशा में घुमा दें।


कुछ ऐसे पौधे और पेड़ हैं जिन्हें घर के आंगन में लगाना शुभ फल देता है, जैसे अनार, दालचीनी, नारियल, अशोक, गुलाब, बकुल, चमेली, केसर और चंपा। ध्यान रखें इन पेड़-पौधों को आंगन के अलावा कहीं और न लगाएं।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन