आज का गुडलक- एकादशी के इस पहर में होगा रोग-शोक का शमन

Saturday, September 2, 2017 6:38 AM
आज का गुडलक- एकादशी के इस पहर में होगा रोग-शोक का शमन

शनिवार दि॰ 02.09.17 भाद्रपद शुक्ल एकादशी को डोल ग्यारस का पर्व मनाया जाएगा। शास्त्रनुसार कृष्ण जन्माष्टमी के ग्यारहवें दिन यशोदा ने श्रीकृष्ण का जलवा पूजन अर्थात कुआं पूजन किया था। शास्त्रनुसार इस दिन श्रीहरी ने श्रीरसागर में चातुर्मास के शयन काल के दौरान करवट बदली थी। अतः इस पर्व को परिवर्तिनी एकादशी, जयझूलनी एकादशी, पद्मा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन  श्रीकृष्ण के निमित अर्घ्य, दान, फल-फूल अर्पित कर व्रत पूजन उपाय से व्यक्ति का कल्याण होता है उसकी सर्व कामना पूर्ण होती है तथा रोग व शोक का शमन होता है।


विशेष पूजन: श्रीकृष्ण का पंचोपचार पूजन करें। गौघ्रत का दीप करें, सुगंधित धूप करें, भगवान को जल चढ़ाएं, काजल चढ़ाएं, तुलसी पत्र चढ़ाएं, ककड़ी का भोग लगाएं। इस विशेष मंत्र का 1 माला जप करें। पूजन उपरांत ककड़ी काली गाय को खिलाएं। 


विशेष मंत्र: ॐ कुब्जा-कृष्ण-अम्बरधराय नमः॥


पूजन मुहूर्त: प्रातः 7:45 से प्रातः 09:05 तक। अथवा शाम 19:45 से रात 21:05 तक।


महूर्त विशेष
अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:55 से दिन 12:45 तक।


अमृत काल: रात 2:38 से प्रातः 04:23 तक।


यात्रा महूर्त: दिशाशूल - पूर्व, राहुकाल वास - पूर्व। अतः आज पूर्व दिशा की यात्रा टालें।


वर्जित महूर्त: सुर्यौदय से प्रातः 09:38 तक भद्रा (पाताल) में रहेगी जिसमें शुभ कार्य वर्जित हैं। 


आज का गुडलक ज्ञान
गुडलक कलर:
श्यामल।


गुडलक दिशा: पश्चिम।


गुडलक टाइम: शाम 19:16 से रात 20:41 तक।


गुडलक मंत्र: ॐ गोविन्दाय नमः॥


गुडलक टिप: रोगों से मुक्ति हेतु राई सिर से वारकर जला दें।


गुडलक फॉर बर्थडे: शनि मंदिर में नारियल चढ़ाने से व्यवसाय अच्छा चलेगा।


गुडलक फॉर एनिवर्सरी: दंपति द्वारा कृष्ण मंदिर में बांसुरी चढ़ाने से दांपत्य में मिठास आएगी।
 
आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !