सूर्य देव के इन मंत्रों का करें जाप, जीवन की डूबती नैया होगी पार

Saturday, February 3, 2018 5:09 PM
सूर्य देव के इन मंत्रों का करें जाप, जीवन की डूबती नैया होगी पार

धर्म ग्रथों और वेदों में सूर्यदेव को जगत की आत्मा माना जाता है। सूर्य से ही इस पृथ्वी पर जीवन है, यह आज का सर्वमान्य सत्य है। ऋग्वेद के देवताओं में सूर्य का महत्वपूर्ण स्थान है। इसलिए इन्हें एक देव माना गया है। यदि सूर्य देव की पूरी श्रद्धा से पूजा की जाए तो ये अपने शुभ प्रभाव से व्यक्ति के जीवन को रोशन कर देते हैं, वहीं अगर इनका बुरा प्रभाव किसी के जीवन को प्रभावित कर दे तो उसके जीवन की नैय्या डूबने लगती है। लेकिन इससे बचने के लिए ज्योतिष में कुछ मंत्र के बारे में बताया गया है जिनका नियमित उच्चारण करने से व्यक्ति की समस्त मुश्किलें आसानी से हल हो जाती हैं। 


संतान प्राप्ति
किसी भी दंपति के जूवन में संतान प्राप्ति बहुत जरूरी होती है। इसके लिए दंपति को नियमित संतान प्राप्ति के लिए या पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य देव के इन मंत्रों का जाप करना चाहिए।  
 

ऊं भास्कराय पुत्रं देहि महातेजसे।  
धीमहि तन्नः सूर्य प्रचोदयात्।।


रोगो से छु़कारा पाने के लिए
हृदय रोग, नेत्र व पीलिया रोग एवं कुष्ठ रोग तथा समस्त असाध्य रोगों को नष्ट करने के लिए सूर्य देव के इस मंत्र का जाप करें। 

 
ऊं हृां हृीं सः सूर्याय नमः।।


व्यापार में वृद्धि के लिए 
यदि आपको लगातार व्यापार में व्यापार में नुक्सान का सामना करना पड़ रहा है तो कारोबार में वृद्धि के लिए रोजाना सूर्य देव के इस मंत्र का जाप करें।


 
ऊं घृणिः सूर्य आदिव्योम।।

 

शत्रुओं के नाश के लिए 
अपने शत्रुओं के नाश के लिए सूर्य देव के इस मंत्र का जाप करना चाहिए।
 

शत्रु नाशाय ऊं हृीं हृीं सूर्याय नमः


मनोकामना पूर्ति के लिए
अपनी सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए सूर्य देव के इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

 
ऊं हृां हृीं सः।।

 
ग्रहो की दशा के निवारण हेतु
यदि किसी व्यक्ति पर किसी ग्रह का बुरा असर पड़ जाए या अनिष्ट ग्रहों की दशा के निवारण करना हो तो सूर्य देव के इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

ऊँ हृीं श्रीं आं ग्रहधिराजाय आदित्याय नमः।।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन