अदृश्य सूर्यग्रहण लाएगा बड़ी परेशानी, जानें आपकी राशि पर क्या डालेगा असर

Wednesday, August 9, 2017 9:43 AM
अदृश्य सूर्यग्रहण लाएगा बड़ी परेशानी, जानें आपकी राशि पर क्या डालेगा असर

ज्योतिषशास्त्र की दृष्टि से सोमवार दि॰ 21.08.17 को पड़ने वाला सूर्यग्रहण भी पिछले चंद्रग्रहण की तरह सोमवार को पड़ेगा। यह सूर्यग्रहण सूर्य की स्वयंराशि सिंह में पड़ेगा। सिंह राशि में चंद्र सूर्य राहू ब बुध की युति से चतुर्ग्रही योग बनेगा। तथा यही चारों ग्रह केतू की दृष्टि में आएंगे। तथा चंद्र सूर्य राहू यह यह तीनों ग्रह केतू के नक्षत्र मघा में गोचर करेंगे। इसके साथ ही ग्रहण का निर्माण भी केतू के नक्षत्र मघा में होगा। इस सूर्य ग्रहण से सर्वाधिक असर राजनीति क्षेत्र पर पड़ेगा। केतू युद्ध व मोक्ष का कारक है तथा सूर्य राजनीति का कारक है। ग्रहण से बारहवां स्थान कर्क राशि अर्थात चंद्रमा का है। अतः इस ग्रहण से सर्वाधिक प्रभावित चंद्रमा होगा। चंद्रमा से जल व मनोवृति देखी जाती है। अतः यह ग्रहण जल प्रकृति को प्रभावित करेगा। इस ग्रहण से विश्व स्तर पर पश्चिम-पूर्व की राजनीति के हालत बिगड़ सकते हैं। अतः युद्ध या युद्ध जैसे हालत भी पैदा हो सकते हैं। क्योंकि इस ग्रहण में बुध भी युक्त है अतः जल व वायु से होने वाले रोग भी बढ़ेंगे।


सोमवार दि॰ 21.08.17 को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण द्वादश राशियों पर क्या असर डालेगा आइए राशि अनुसार जानते हैं-


मेष: पांचवें भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से संतान को कष्ट हो सकता है। प्रेम में असफलता के योग हैं। उदर पीड़ा की संभावना है।


वृष: चौथे भाव में इस सूर्यग्रहण के प्रभाव से माता का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। गृहक्लेश के योग हैं। संपत्ति में हानि हो सकती है।


मिथुन: तीसरे भाव में इस सूर्यग्रहण के प्रभाव से अत्यधिक क्रोध आ सकता है। भाई-बहन को कष्ट संभव है। यश-कीर्ति में वृद्धि के योग हैं। 


कर्क: दूसरे भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से आर्थिक विषमताएं बढ़ सकती हैं। सुखों में कमी आ सकती है। गले की समस्या सता सकती है।


सिंह: लग्न में सूर्यग्रहण के प्रभाव से सेहत पर अनिष्ट्सूचक प्रभाव रह सकते हैं। शारीरिक पीड़ा रह सकती है। मानसिक विकार के योग हैं।  


कन्या: द्वादश भाव में इस सूर्यग्रहण के प्रभाव से खर्चों में कटोती होगी। कीर्ति बढ़ सकती है। विदेशी संबंधों में प्रगाढ़ता व लाभ के योग हैं।


तुला: एकादश भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से आर्थिक रुकावट के योग हैं। सरकारी कार्य असफल रह सकते हैं। व्यापार में हानि हो सकती है।


वृश्चिक: दसवें भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से पिता को कष्ट संभव है। पैतृक संपत्ति में विवाद के योग हैं। कार्यक्षेत्र में समस्या आ सकती है।


धनु: भाग्य भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से भाग्यहीनता के योग हैं। वैराग्य की भावना बढ़ सकती है। धर्म की ओर झुकाव बढ़ सकता है। 


मकर: अष्टम भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से दुर्घटना के योग हैं। गुप्त शत्रुओं द्वारा षड्यंत्र हो सकता है। लैंगिक जीवन नीरस हो सकता है।


कुंभ: सप्तम भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से दांपत्य में कटुता के योग हैं। जीवनसाथी की हैल्थ बिगड़ सकती है। पार्टनर्शिप टूट सकटी है।


मीन: छठे भाव में सूर्यग्रहण के प्रभाव से शत्रु नतमस्तक हो सकते हैं। साहस बढ़ने के योग हैं। स्वार्थी बनकर किसी की हानि कर सकते हैं।


आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!