श्राद्ध कल से, 16 की बजाय 15 दिनों के होंगे इस बार श्राद्ध

Tuesday, September 5, 2017 8:40 AM
श्राद्ध कल से, 16 की बजाय 15 दिनों के होंगे इस बार श्राद्ध

इस बार श्राद्ध 16 दिनों की बजाय 15 दिनों के होंगे क्योंकि 17 सितम्बर को द्वादशी व त्रयोदशी एक ही दिन होने के कारण श्राद्ध एक ही दिन को किया जाएगा। ये शब्द प्रसिद्ध विद्वान पंडित संजय कुमार पचोरी राधे-राधे ने बातचीत के दौरान कहे। 


पंडित संजय ने बताया कि श्राद्ध 6 सितम्बर से शुरू हो जाएंगे जो अमावस्या (20 सितम्बर) तक चलेंगे। इन दिनों में पितृों के निमित्त तृपण व श्राद्ध किया जाएगा, इसलिए इसको पितृ पक्ष भी कहा जाता है। उन्होंने बताया कि 17 सितम्बर को द्वादशी तारीख दोपहर तक रहेगी। इस उपरांत त्रयोदशी तारीख शुरू हो जाएगी, जो अगले दिन 18 सितम्बर को दोपहर तक रहेगी।


शास्त्रों के अनुसार श्राद्ध तय तारीखों के अनुसार ही करने चाहिए। पंडित पचोरी ने बताया कि श्राद्ध हेतु सुबह देवताओं के लिए, मध्य में मनुष्यों के लिए, दोपहर बाद पितृों के लिए व शाम का समय राक्षसों के लिए होता है। श्राद्ध करने का अधिकारी पुत्र, पत्नी व सगा भाई ही होता है। श्राद्ध में तिल, चावल, जौ, कुशा आदि को अधिक महत्व दिया जाता है, साथ ही वेद पुराणों में यह भी जिक्र है कि श्राद्ध का अधिकार सिर्फ योग्य ब्राह्मणों को ही है। 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !