कश्मीरी पंडित अब स्वयं को गुरु तेग बहादुर पंथी बताएंगे

Thursday, January 4, 2018 10:49 AM
कश्मीरी पंडित अब स्वयं को गुरु तेग बहादुर पंथी बताएंगे

कश्मीरी पंडितों के नेताओं ने किया ऐलान
नई दिल्ली, (ब्यूरो): श्री गुरु तेग बहादुर साहिब द्वारा हिंदुस्तान के धर्मनिरपेक्ष ढांचे को बचाने के लिए दी गई शहादत को नतमस्तक होते हुए कश्मीरी पंडित अब स्वयं को गुरु तेग बहादुर पंथी कह कर संबोधित करेंगे। इस बात का ऐलान आज कश्मीरी पंडितों की नेता एवं श्री गुरु तेग बहादुर साहिब सम्मान यात्रा की प्रमुख प्रीति सप्रू ने किया। सप्रूदिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के. की मौजूदगी में पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं। 

 

सप्रू कश्मीरी पंडितों के नेताओं और दिल्ली एवं शिरोमणि कमेटी के सहयोग से 6 जनवरी को सम्मान यात्रा शुरू कर रही हैं। यात्रा दिल्ली के गुरुद्वारा शीशगंज साहिब से शुरू होगी। देर रात आनंदपुर साहिब पहुंचेगी। दूसरे दिन आनंदपुर साहिब में समागम होगा।


यात्रा में दिल्ली कमेटी द्वारा तालमेल करने की जिम्मेदारी कमेटी सदस्य परमजीत सिंह चंढोक को सौंपी है। प्रीति सप्रू के साथ ही कर्नल तेज टिक्कू एवं जनरल राजदान ने कहा कि 1675 में जैसे कश्मीरी पंडितों को धार्मिक असहनशीलता का सामना औरंगजेब के राज में करना पड़ रहा था आज भी हालात वैसे ही हैं। हमें अपने घरों को वापस जाने के लिए सुरक्षित माहौल उपलब्ध करवाने में सरकारें कामयाब नहीं हो रही हैं इसलिए 342 वर्षों बाद फिर से श्री आनंदपुर साहिब की धरती पर नतमस्तक होकर गुरु साहिब जी के चरणों में अपनी घर वापसी की अरदास करने के लिए हम लोग जा रहे हैं। इस मौके पर 1000 कश्मीरी पंडित यात्रा में शामिल होंगे।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन