गणेश जी का वाहन चूहा, घर में आकर देता है भविष्य से जुड़े संकेत

Thursday, August 24, 2017 1:54 PM
गणेश जी का वाहन चूहा, घर में आकर देता है भविष्य से जुड़े संकेत

गणेशोत्सव पर्व का आरंभ होने को है। इस बार पूरे 11 दिन तक बप्पा श्रद्धालुओं के संग रहेंगे। बहुत सारे स्थानों पर तो बप्पा के साथ उनके वाहन मूषक का भी पूजन होगा। जब यही चूहा किसी के घर में आ आए तो सारा घर परेशान हो जाता है। उसे बाहर निकालने के लिए अधिकतर लोग चूहा मारने की दवा का इस्तेमाल करते हैं। ऐसा करना पाप का हकदार तो बनाता है, साथ में गणपति को नाराज भी करता है। मूषक को मारने की बजाय भगाने की दवा डाली जा सकती है।


चूहे को मारने से घर-परिवार पर नकारात्मकता भी हावी हो जाती है। चूहे घर के कोनों में बिल बनाकर रहते हैं। वहां अंधेरे का अस्तित्व कायम होता है, जिससे उनमें भी नैगेटिव शक्तियों का प्रभाव स्थिर रहता है। जब घर में चूहे आने लगे तो समझ जाएं कुछ अनिष्ट होने वाला है। इस अशुभ प्रभाव से बचने के लिए बप्पा को मोदक का भोग लगाएं। 


घर में 50 ग्राम फिटकरी का टुकड़ा रखने से नकारात्मकता हावी नहीं होती। 1 महीने के बाद पुराने टुकड़े को किसी नदी में बहा दें और उसके स्थान पर नया टुकड़ा रख दें। इस उपाय से वास्तुदोष का भी शमन होता है।


ऊंट के दाएं पैर का नाखून घर में रखने से चूहे सदा के लिए घर से बाहर भाग जाते हैं।


चूहे के समान दिखने वाला छछूंदर घर में आ जाए तो ये शुभ संकेत है, समझ जाएं देवी लक्ष्मी आपके घर आने वाली हैं।


गणेश जी का चित्रपट अथवा स्वरूप घर में स्थापित करने से पहले ध्यान रखें उसमें मोदक और मूषक अवश्य होने चाहिए। इन दो चीजों के अभाव में गणेश प्रतिमा अप्रभावी होती है।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !