घर पर विंड चाइम लगाकर न करें ये भूल, भुगतना पड़ेगा घातक परिणाम

Saturday, May 6, 2017 9:49 AM
घर पर विंड चाइम लगाकर न करें ये भूल, भुगतना पड़ेगा घातक परिणाम

आजकल लोगों का फेंगशुई यंत्रों के प्रति विशेष रूझान बढ़ रहा है। घर में सकारात्मकता का माहौल बनाए रखने के लिए लोग इन्हें अपने घर और कार्य स्थान का विशेष अंग बना रहे हैं। घर में हमेशा के लिए नकारात्मकता को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए विंड चाइम बेहद कारगर है। इसकी मधुर ध्वनि से घर के वातावरण में खुशनुमा और पवित्रता का समावेश होता है। इसे घर में लगाने से समृद्धि और सौभाग्य का उदय होता है। इसकी सात्विकता का प्रभाव पूर्ण रूप से आपके जीवन पर पड़े इसके लिए इसे सही स्थान पर लगाएं। अधिकतर लोग इसे लगाने के बाद अनजाने में कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं, जिसके परिणाम भविष्य में घातक सिद्ध होते हैं।


सबसे पहले ध्यान रखें, जिस स्थान पर विंड चाइम लगाया हो उसके नीचे बैठना नहीं चाहिए और न ही उसके नीचे से गुजरना चाहिए।


दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्टोर, वॉशरूम और रसोई है, ऐसे स्थान पर शुभ प्रभाव के लिए मेटल की विंड चाइम लगाएं।


घर के आर्थिक हालात मजबूत करने के लिए 6, 7, 8 और 9 रॉड या घंटियों वाली विंड चाइम लगाएं।


श्री और समृद्धि को घर में स्थान देने के लिए 7 व 8 रॉड या घंटियों वाली विंड चाइम लगाएं।


विंड चाइम हमेशा खोखली नली वाली ही लेनी चाहिए।


पांच रॉड वाले विंड चाइम को घर में लगाने से नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है। साफ शब्दों में कहें तो बुरी शक्तियों को समाप्त कर सकारात्मक ऊर्जा की उत्पत्ति को बढ़ावा देती है।


6 रॉड वाली पीले रंग की विंड चाइम को उत्तर-पश्चिम दिशा में लगाया जाए तो यश और पैसा दोनों आपके द्वार पर होंगे।


7 रॉड वाली सिल्वर और सफेद रंग की विंड चाइम को पश्चिम दिशा में लगाने से आपके पारिवारिक रिश्ते मधुर होंगे और दोस्तों के साथ भी खूब बनेगी।


जॉब में तरक्की पाना चाहती हैं, तो यैलो कलर की विंड चाइम को उत्तर-पश्चिम दिशा में लटकाया जा सकता है। 


सिरेमिक की विंड चाइम काफी खूबसूरत दिखती हैं। इसे लगाते समय भी दिशा का ख्याल रखना जरूरी है। इसे दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पूर्व या केंद्र में लगाना अच्छा रहेगा।


अपने प्यारे नन्हे- मुन्ने का कमरा उत्तर की ओर बनाया है, तो उस कमरे के लिए धातु की विंड चाइम का उपयोग करें। फेंगशुई के अनुसार पश्चिम दिशा को बच्चों का क्षेत्र माना जाता है। इस स्थान पर अंदर से खाली धातु की बेलनाकार विंड चाइम लगाएं, तो घर में शांति कायम रहेगी। 


अगर पीतल या स्टील की बनी विंड चाइम खरीद रही हैं, तो इसमें रॉड की संख्या 6 या 7 होनी चाहिए, यह घर में संपन्नता लाती है। अगर विंड चाइम बांस की बनी हो, तो इसमें रॉड की संख्या 3 या 4 होनी चाहिए। इस तरह के विंड चाइम को घर में लगाने से उसके गुणों का सर्वाधिक लाभ उठाया जा सकता है। यह घर की सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाती है या यह भी कह सकते हैं कि किस्मत का ताला खोलती है। कभी भी धातु की विंड चाइम को पूर्व में और लकड़ी की विंड चाइम को दक्षिण-पश्चिम दिशा में लटकाना शुभ नहीं माना जाता है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!