राजा को सबकी रक्षा के लिए रखना चाहिए आचार्य चाणक्य की विशेष बात का ध्यान

Monday, February 13, 2017 9:31 AM
राजा को सबकी रक्षा के लिए रखना चाहिए आचार्य चाणक्य की विशेष बात का ध्यान

आचार्य चाणक्य एक बड़े दूरदर्शी विद्वान थे। चाणक्य जैसे बुद्धिमान, रणनीतिज्ञ, चरित्रवान व राष्ट्रहित के प्रति समर्पित भाव वाले व्यक्ति भारत के इतिहास में ढूंढने से भी बहुत कम मिलते हैं। इनकी नीतियों में उत्तम जीवन का निर्वाह करने के बहुत से रहस्य समाहित हैं, जो आज भी उतने ही कारगर सिद्ध होते हैं। जितने कल थे। अर्थशास्त्र के रचियता आचार्य चाणक्य ने अपने जीवन से प्राप्त अनुभवों का संकलन किया था, जिसे दुनिया चाणक्य नीति के नाम से जानती है। चाणक्य नीति की ज्यादातर बातें सिर्फ आदर्श से प्रभावित नहीं हैं, उनमें यथार्थ की स्पष्ट झलक है। इन नीतियों को अपने जीवन में अपनाने से बहुत सी समस्याओं से बचा जा सकता है। 

 

आत्मनि रक्षिते सर्वं रक्षितं भवति।

 

भावार्थ:राजा को सदैव इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि प्रजा की रक्षा के लिए वह अपने गौरव को किसी रूप में भी मलिन न होने दे। राजा के गौरव के सम्मुख उसकी प्रजा का मनोबल भी ऊंचा होता है।


 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !