बुध ग्रह की शुभता देती है अच्छी कमाई और उन्नति, जानें आप पर है कैसा प्रभाव

Tuesday, September 5, 2017 1:47 PM
बुध ग्रह की शुभता देती है अच्छी कमाई और उन्नति, जानें आप पर है कैसा प्रभाव

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में बुध का काफी महत्व है। बुध, बुद्धि का कारक है। सामाजिक जीवन में, पारिवारिक जीवन में, आध्यात्मिक जीवन में या किसी अन्य क्षेत्र में अच्छे बुध वाला व्यक्ति उत्तम निर्णय लेकर सदैव उचित कार्य करता है। जिस व्यक्ति का बुध अच्छा होता है, वह अपने कामों की ओर सभी का ध्यान आकर्षित करता है। हथेली में तात्विक चिन्ह हों और व्यक्ति बुध प्रधान हो तो जातक अपनी कुशाग्र बुद्धि के बलबूते पर अच्छे निर्णय लेकर व्यापार-व्यवसाय में खूब उन्नति करता है। यदि जातक के हाथ की रचना (आकृति) व्यावहारिक होने के साथ ही तात्विक चिन्ह वाली हो अथवा तात्विक के साथ व्यावहारिक आकृति हो तो ऐसा व्यक्ति प्रोफैशनल लाइन में अपनी कुशाग्र बुद्धि से कंसल्टिंग में अच्छी कमाई करता है। इतना ही नहीं अच्छे व्यक्तित्व के कारण समाज में मान-प्रतिष्ठा भी अर्जित करता है।


यदि सम्पूर्ण हाथ की आकृति तात्विक हो और व्यक्ति बुध प्रधान हो तो जातक विज्ञान के क्षेत्र में विलक्षण उपलब्धि अर्जित करता है। नया शोध, आविष्कार भी ऐसे जातक करते हैं। ऐसे व्यक्ति समाज के लिए त्याग करके उत्तम सेवाएं देते हैं। बिजली, पंखा, फोन, मोबाइल, मोटरगाड़ी जैसे आविष्कार बुध प्रधान व्यक्ति ही कर पाए।


जिस व्यक्ति का बुध अन्य सभी ग्रहों से पावरफुल हो तो वह जातक बुध प्रधान कहलाता है। ऐसे व्यक्ति के पास अच्छी सूझबूझ और निर्णय लेने की क्षमता होती है। अन्य लोग ऐसे व्यक्ति से सलाह-मशविरा करने आते हैं। ऐसे व्यक्ति किसी कम्पनी के प्रतिनिधि के रूप में, सलाहकार के रूप में अथवा समाज के अन्य क्षेत्र में अच्छे कार्य अपनी तार्किक विचारशक्ति के कारण करते हैं। वैसे प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में बुध शुभ फलदायी होता है। अलग-अलग हस्त-रचना में बुध अलग-अलग तरह के फल देता है।


कनिष्ठा उंगली के नीचे हथेली में फैला हुआ और उठा हुआ भाग बुध का प्रदेश है। बुध का ग्रह (पर्वत) अच्छी तरह उठा हुआ (विकसित) हो तो व्यक्ति में बौद्धिक कौशल देखने को मिलता है। ऐसा व्यक्ति हर काम का आकलन करके उसे करता है और अच्छा व्यापारी बन सकता है। इसके अलावा अपनी तार्किक शक्ति के कारण हर क्षेत्र में योग्य निर्णय के साथ व्यापार-व्यवसाय में अच्छी उन्नति करता है।


बुध का पर्वत यदि सामान्य से अधिक ऊंचा हो तो ऐसा जातक छलकपट में आगे रहता है। इसी के साथ यदि शुक्र बलवान हो तो जातक असाधारण होता है। सामाजिक या राजनीतिक क्षेत्र में आकर ऐसा जातक कई लोगों की नाक में दम करता है। ऐसे लोग बोलते कुछ और तथा करते कुछ और हैं।


बुध ग्रह यदि कमजोर हो तो फिर इन प्रभावों में भी कमी आ जाती है। बुध पर्वत यदि सामान्य से भी कम हो तो जातक के जीवन में अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाती।
बुध पर यदि खड़ी रेखा हो तो व्यक्ति अच्छा व्यापारी बन सकता है। हाथ की रचना विशिष्ट आकृति में हो, बुध बलवान हो, साथ ही इस पर्वत पर बहुत सी रेखाएं हों और मस्तिष्क रेखा हदय रेखा समानांतर हों और वे मंगल या चंद्र पर्वत पर समाप्त हो रही हों तो ऐसा जातक डाक्टर बनता है।


बारीक खड़ी रेखाएं बुध पर्वत पर दिखाई दें तो ये शरीर के निचले भाग में  घाव होने का संकेत देती हैं। बुध पर्वत पर त्रिकोण होने के साथ ऊपर दिए शुभ संयोग हों और जातक राजनीति में हो तो वह खूब चाणक्य बुद्धि से काम करता है और राजनीति में अत्यंत कुशल होता है।


त्रिशूल शुभ योगों की निशानी है। ऐसा व्यक्ति धन और र्कीत हासिल करता है। चौकोर-चौकोर चिन्ह किसी भी ग्रह पर हों तो यह अच्छी निशानी है। बुध पर्वत पर चौकोर चिन्ह हो तो वह व्यक्ति को आर्थिक हानि से बचाता है। बुध प्रधान व्यक्ति भी सदैव शुक्र प्रधान व्यक्ति की तरह स्फूर्तिवान रहता है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!