मुख्य द्वार से लेकर तिजोरी तक को सुरक्षित करते हैं अशोक के पत्ते, जानें कैसे

Wednesday, March 1, 2017 9:32 AM
मुख्य द्वार से लेकर तिजोरी तक को सुरक्षित करते हैं अशोक के पत्ते, जानें कैसे

अशोक का अर्थ है किसी भी तरह के शोक से मुक्त। अशोक का पेड़ आपने आसपास देखा होगा। क्या आप इसके चमत्कारी प्रभाव को जानते हैं? इस पेड़ की छाया में बैठने से दुख-संताप से मुक्ति मिलती है। आयुर्वेद में भी इसका अत्यधिक महत्व माना गया है। शास्त्रों के अनुसार, अशोक का पेड़ बहुत पवित्र व लाभकारी होता है। मान्यता है कि अशोक का वृक्ष जिस स्थान पर उगता है वहां दुख अौर अशान्ति का नाश हो जाता है। इस पेड़ में औषधीय गुणों के साथ-साथ ज्योतिषय गुण भी होते हैं। मांगलिक एवं धार्मिक कार्यों में अशोक के पत्तों का प्रयोग किया जाता है। वास्तुनुसार अशोक का वृक्ष घर में लगाना अत्यंत लाभकारी है। 


अशोक के पत्तों को वंदनवार के रूप में मुख्य द्वार पर लगाने से नकारात्मक शक्तियां घर में प्रवेश नहीं कर पाती।


अशोक के पेड़ की जड़ को तिजोरी में रखने से भर जाएगा धन ही धन।


प्रतिदिन घर के सभी सदस्य अशोक के फूलों को पीस कर उसमें शहद मिला कर सेवन करें। ऐसा करने से जीवन में कभी भी किसी चीज का अभाव नहीं रहेगा, दुख-दरिद्रता और नकारात्मकता कोसों दूर रहेंगी।


अशोक वृक्ष के पत्ते दैविय शक्तियों को अपने आकर्षण में बांधते हैं। प्रतिदिन घर के पूजा घर में अशोक के पत्ते अर्पित करें। जब भी मंदिर जाएं देवी-देवताओं के लिए भेंट स्वरूप भी ये पत्ते ले जाएं।


वैवाहिक जीवन में कलह रहती है तो अशोक के सात पत्ते घर के मंदिर में रखें। जब पत्ते सूख जाएं तो दुबारा इस उपाय को दोहराएं। पति-पत्नी के मध्य प्रेम बढ़ेगा और सारी गलतफहमियां खत्म होंगी।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!