प्राचीन उपाय करने की सलाह देते हैं बुजुर्ग, कठिन मुश्किलों में मिलेंगे आसान हल

Tuesday, January 9, 2018 10:56 AM
प्राचीन उपाय करने की सलाह देते हैं बुजुर्ग, कठिन मुश्किलों में मिलेंगे आसान हल

कई बार काफी प्रयास के बावजूद कार्य नहीं हो पाता। कहीं न कहीं भाग्य का खेल उस मंजिल को हमसे दूर ही रखता है। ऐसे में कुछ प्राचीन उपाय करने की सलाह हमारे बुजुर्ग देते आए हैं जैसे : 


त्वचा संबंधी रोग केतु के दुष्प्रभाव से बढ़ते हैं। यदि त्वचा संबंधी घाव ठीक न हो रहा हो तो सायंकाल मिट्टी के नए पात्र में पानी रख कर उसमें सोने की अंगूठी या अन्य कोई आभूषण डाल दें। कुछ देर बाद उसी पानी से घाव को धोने के बाद अंगूठी निकाल कर रख लें तथा पानी किसी चौराहे पर फैंक दें। ऐसा तीन दिन करें तो रोग शीघ्र ठीक हो जाएगा।


अपना सोया भाग्य जगाने के लिए आप प्रात: उठकर जो भी स्वर चल रहा हो, वहीं हाथ देखकर तीन बार चूमें, तत्पश्चात वहीं पैर धरती पर रखें और वहीं कदम आगे बढ़ाएं। 
ऐसा नित्य-प्रतिदिन करने से निश्चित रूप से भाग्योदय होगा।


अगर आपको किसी कारणवश कोई कार्य अपनी इच्छा के विपरीत करना पड़ रहा हो तो आप कपूर और एक फूलवाली लौंग एक साथ जलाकर दो-तीन दिन में थोड़ी-थोड़ी खा लें। आपकी इच्छा के विपरीत कार्य होना बंद हो जाएगा।


रिक्ता तिथि, यम घंटक काल, भद्रा, राहू काल को त्याग कर शुभ तिथि, शुभ वार में यह प्रयोग करें। डेढ़ मीटर सफेद कपड़ा चौकी पर बिछा लें। पूर्व में मुंह करें तथा पांच खिले हुए साबुत गुलाब के फूल, लक्ष्मी या गायत्री मंत्र पढ़ते हुए एक-एक करके सफेद कपड़े पर रखते हुए तथा फिर हल्के हाथ से कपड़े को गुलाब के फूल सहित बांध लें। इस बंधे हुए कपड़े को गंगा या यमुना नदी में प्रवाहित कर दें। ऐसा सात बार करें। माता लक्ष्मी सहयोग देंगी। आपकी स्थिति में सुधार होगा तथा कर्ज से मुक्ति मिलेगी।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन