कम हुआ सुखना लेक का पानी, रोइंग खिलाडिय़ों की बड़ी परेशानी

Friday, April 21, 2017 2:01 PM
कम हुआ सुखना लेक का पानी, रोइंग खिलाडिय़ों की बड़ी परेशानी

चंडीगढ़ (लल्लन):  सुखना लेक पर चल रहे रोइंग कोचिंग सैंटर में अभ्यास कर रहे खिलाडिय़ों को इन दिनों लेक में पूर्ण रूप से लेक में पानी नहीं मिल पा रहा है। इस कारण कई खिलाड़ी इन दिनों दूसरे सैंटरो का रूख कर रहे हैं। खिलाडिय़ों का कहना है कि अगर ऐसा ही हाल रहा तो मई में अभ्यास भी बंद हो सकता है। 

लेक में रोइंग कोर्स में पानी का स्तर करीब 2 से 2.5 फुट ही रह गया है। ऐसे में जब खिलाड़ी अभ्यास करते हैं तो नाव चलाते समय चप्पू मिट्टी में फंस जाता है। यह ऐसा समय है जब खिलाडिय़ों के कई अहम मुकाबले होने वाले हैं व अगर प्रैक्टिस बंद होती है तो प्रदर्शन भी प्रभावित होगा। यही नही रोइंग खिलाडिय़ों के रोइंग कोर्स भी कम कर दिया है। 

अभ्यास के लिए 9 फुट होना चाहिए पानी...
अभ्यास करने के लिए लेक में पानी का स्तर करीब 9 फुट पानी का होना चाहिए। लेकिन पानी का स्तर नीचे गिर रहा है। लेक के बीच में कहीं-कहीं तो जमीन भी दिखनी शुरू हो गई है। ऐसे में अब रोइंग खिलाडिय़ो को अभ्यास करने के लिए हरियाणा, हिमाचल तथा पंजाब के डैम का रूख करना पड़ सकता है। 

रोइंग कोर्स भी कर दिया कम...
सुखना लेक कभी रोइंग का हब माना जाता था। और यहां दो इंटरनैशनल मुकाबले भी खेले जा चुके हैं लेकिन आज उसी सैंटर को बचाने का संघर्ष चल रहा है। वही सुखना लेक का रोइंग कोर्स को 2 किलो मीटर की बजाय 1 किलो मीटर कर दिया है। खिलाडिय़ो को रूटीन में रोजाना करीब 16 किलोमीटर अभ्यास करना जरूरी होता है। 

मिट्टी व जलीय पौधो में फंस रहे चप्पू...
इन दिनों सुखना लेक में पानी कम होने से रोइंग खिलाडिय़ों को काफी परेशानियां पेश आ रही हैं। खिलाडिय़ों से मिली जानकारी के अनुसार अभ्यास करते समय जब नाव चलाते समय कई बार चप्पू मिट्टी में फंस जाते हैं। यही नही कई बार तो जलीय वनस्पति में चप्पू फंसने पर छुड़ाने में काफी समय भी लग जाता है।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !