अब पुलिस गानों के जरिए सिखाएगी जनता को ट्रैफिक नियमों का पाठ, यह हैं गानों के बोल...

Wednesday, February 14, 2018 10:54 AM
अब पुलिस गानों के जरिए सिखाएगी जनता को ट्रैफिक नियमों का पाठ, यह हैं गानों के बोल...

चंडीगढ़(संदीप) : ट्रैफिक पुलिस अब अपने तैयार किए गानों के जरिए जनता को ट्रैफिक नियमों का पाठ पढ़ाएगी। पुलिस के ये गाने जल्द एफ.एम. रेडियो पर गूंजेंगे। खुद ट्रैफिक पुलिस में तैनात हैड कांस्टेबल भूपिंदर ने इन गानों को तैयार किया है। इन्हें जल्द एफ.एम. पर चलाने की तैयारी की जा रही है। 

 

ट्रैफिक पुलिस ने हाल ही में शहर को हार्न फ्री सिटी बनाने के लिए मुहिम शुरू की है। पुलिस लोगों को इस संबंधी जागरूक कर रही है कि बेवजह हॉर्न बजाना गलत है और ऐसा करने पर चालान कटेगा। ट्रैफिक पुलिस ने इस संबंधी गाना तैयार किया है। 

 

हैड कांस्टेबल भुपिंदर सिंह ने गाने के जरिए बताया है कि सड़क पर बेवजह हार्न बजाना आपके के लिए चालान का कारण बन सकता है। बिना गल्ल तों हॉर्न क्यों बजाई जाना...यह इस गाने के बोल हैं। 

 

हर तरह के नियम के लिए तैयार किया गाना :
ट्रैफिक पुलिस ने अलग-अलग नियमों के प्रति जागरूक करने के लिए गाने तैयार किए हैं। भूपिंदर सिंह ने बताया कि रात को लगाए जाने वाले ड्रकंन ड्राइव नाको संबंधी जागरूक करने के लिए जो गाना तैयार किया गया है उसके बोल हैं राती नाके लगदे ऐवें ने फडया जाईं। नियमों की अनदेखी करने के दुष्प्रभावों संबंधी जागरूक करने के लिए जो गाना तैयार किया है उसके बोल हैं सड़क ते कइयों से सुपने चूर हुंदे देखे में, अपणियां तों अपने दूर हुंदे  देखे में। 

 

भलाई और गाने का शौक हो रहे पूरे :
मूलरूप से पंजाब के गुरदासपुर निवासी भूपिंदर ने बताया कि उन्होंने वर्ष 1987 में विभाग में बतौर कांस्टेबल ज्वाइन किया था। 2008 में उन्हें हैड कांस्टेबल प्रमोट किया था। बचपन से ही उन्हें गाने का शौक था लेकिन किसान परिवार से होने के कारण उन्हें कभी गाना सिखने का मौका नहीं मिला था। 

 

नौकरी लगने के बाद 2002 में उन्होंने विभाग के लिए जागरूकता गाना तैयार करने के साथ अपने इस शौक को जाहिर किया। इसके बाद विभाग के आलाधिकारियों, डी.जी.पी. तेजिंदर सिंह लुथरा, एस.एस.पी. ट्रैफिक शंशाक आनंद व अन्य अधिकारियों की तरफ से पूरा सहयोग मिला। पिछले साल उन्हें पुलिस मैडल से भी नवाजा गया था। 
 



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन