UT पावरमैन यूनियन ने उठाया मुद्दा, कहा-कर्मचारियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी, कोई समझौता नहीं

Wednesday, February 14, 2018 10:21 AM
UT पावरमैन यूनियन ने उठाया मुद्दा, कहा-कर्मचारियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी, कोई समझौता नहीं

चंडीगढ़(विजय) : ‘जो कर्मचारी हमारे लिए काम कर रहे हैं उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी हमारी ही बनती है। जिस किसी भी कर्मचारी के साथ कोई हादसा होता है तो उसके आश्रितों की जिम्मेदारी भी हमारी है। इसलिए कर्मचारियों के साथ किसी प्रकार का अन्याय नहीं होना चाहिए।’ 

 

मंगलवार को जब ज्वाइंट इलैक्ट्रिसिटी रैगुलेट्री कमिशन (जे.ई.आर.सी.) के सामने यू.टी. पॉवरमैन यूनियन ने कर्मचारियों की सुरक्षा के मुद्दे पर इंजीनियरिंग विभाग को कटघरे में खड़ा कर दिया तो खुद कमिशन के चेयरपर्सन एम.के. गोयल ने प्रशासनिक अधिकारियों की जमकर क्लास लगा डाली। 

 

दरअसल कुछ दिन पहले सैक्टर-25 में बिजली कर्मचारी की मौत होने के बावजूद अभी तक चंडीगढ़ प्रशासन ने उनकी सुरक्षा के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए। यही मुद्दा सैक्टर-10 स्थित गवर्नमैंट आर्ट एंड म्यूजियम के ऑडिटोरियम में पब्लिक हियरिंग के दौरान यूनियन के महासचिव गोपाल दत्त जोशी ने उठाया। 

 

जोशी ने कहा कि स्टाफ की सुरक्षा प्रशासन की जिम्मेदारी है, लेकिन जब कोई कर्मचारी ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवा देता है तो उसके परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने पर भी प्रशासन आनाकानी करता है। 

 

इस पर गोयल ने पब्लिक हियरिंग के दौरान मौजूद चीफ इंजीनियर मुकेश आनंद को कहा कि इस प्रकार के मामलों को सबसे पहले निपटाया जाना चाहिए। मुकेश आनंद ने जब नियमों का हवाला दिया तो चेयरपर्सन ने कहा कि जरूरत के अनुसार नियम बदले जाने चाहिए। 

 

2.25 कंज्यूमर्स पर 830 कर्मचारी :
यूनियन की ओर से बताया गया कि विभाग में 30 साल पहले 1780 पोस्टें थीं। उस समय कुल कनैक्शन 1.12 लाख थे। अब 30 साल बाद कनैक्शन 2.25 लाख हो चुके हैं, लेकिन कर्मचारियों की गिनती घटकर 830 रह गई है। 

 

जोशी ने कमीशन से अपील की कि विभाग में खाली पड़ी 700 से अधिक पोस्टों को रैगुलर तौर पर भरा जाए तथा जो कर्मचारी आऊटसोर्स पर रखे गए हैं उन्हें विभाग के अधीन किया जाए। 

 

कमर्शियल कंज्यूमर्स दे रहे 10.50 रुपए का टैरिफ :
चंडीगढ़ व्यापार मंडल (सी.बी.एम.) के चेयरमैन चरणजीव सिंह ने कहा कि कमर्शियल कंज्यूमर्स से एफ.पी.पी.सी.ए. चार्ज 1.67 रुपए प्रति यूनिट से लेकर 3.89 रुपए प्रति यूनिट वसूल किया जा रहा है। 

 

जिससे कमर्शियल कंज्यूमर्स को 10.50 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली का बिल चुकाना पड़ रहा है, जबकि मोहाली में पंजाब सरकार कमर्शियल कंज्यूमर्स का टैरिफ 6.50 से 5 रुपए करने पर विचार कर रही है। 

 

चंडीगढ़ ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष कमलजीत सिंह पंछी ने कहा कि कॉलोनियों में कुंडी कनैक्शन की वजह से उन कंज्यूमर्स पर टैरिफ का बोझ बढ़ाया जा रहा है जो लगातार बिल भरते आ रहे हैं।



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन