पीजीआई के इस Idea ने बचाए 75 टन कागज और करोड़ों रुपए

Monday, March 20, 2017 4:51 PM
पीजीआई के इस Idea ने बचाए 75 टन कागज और करोड़ों रुपए

चंडीगढ़ : PGI के हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट ने टेली एविडेंस फैसिलिटी की सुविधा शुरू की थी। पहले डॉक्टर को कोर्ट में रिकार्डिंग एविडेंस के लिए कभी पंजाब तो कभी हिमाचल या फिर हरियाणा के जिलों की कोर्ट में जाना पड़ता था। इसमें सरकार का काफी पैसा और कागज खर्च होता था, लेकिन टेली एविडेंस फैसिलिटी के तहत डॉक्टर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पीजीआई से ही सुुबूत पेश कर देते हैं। इस प्रोजेक्ट को पूरे देश में सराहा गया है।

 

पीजीआई ने इस एक आइडिए से सरकार के तीन करोड़ रुपये और 75 टन कागज को बचा लिया है। पीजीआई के इस प्रोजेक्ट को स्कॉच आर्डर ऑफ मेरिट पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इस मौके पर पीजीआई के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. एके गुप्ता ने बताया कि टेली एविडेंस सुविधा शुरू करने वाला पीजीआई देश का पहला संस्थान है। यह सुविधा साल 2015 में शुरू की गई थी। अब तक 2200 से ज्यादा साक्ष्यों को टेली एविडेंस के माध्यम से प्रस्तुत किया जा चुका है।  




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !