शतरंज की लत में गंवाया सब कुछ

Monday, June 19, 2017 11:53 PM
शतरंज की लत में गंवाया सब कुछ

चंडीगढ़, (नेहा): थिएटर फॉर थिएटर ग्रुप द्वारा करवाए जा रहे तीन दिवसीय थिएटर फैस्टीवल की सोमवार को टैगोर थिएटर में सोमवार को की गई। पहले दिन नाटक ‘शतरंज के खिलाड़ी’ मंचित किया गया। नाटक मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखी गई कहानी ‘शतरंज के खिलाड़ी’ का नाट्य रूपांतरण है।

 इसका निर्देशन प्रीत भुलार ने किया तथा नाटक की प्रस्तुति थिएटर फॉर थिएटर ग्रुप के कलाकारों ने दी। नाटक अवध की पृष्ठभूमि पर आधारित रहा जिसमें दिखाया कि कैसे दो लोगों को शतरंज की ऐसी लत पड़ी कि उनके सामने उनका राज्य, उनकी ताकत सब कुछ चला गया लेकिन उसके बाद भी वे दोनों खुद को शतरंज की लत से निकाल नहीं पाए।

इस कहानी के अंत को मूल कहानी से अलग दिखाया गया जिसमें निर्देशक ने अपनी एक नई सोच और सवाल को सामने लाने की कोशिश की है। जहां मूल कहानी में अंग्रेजों द्वारा सब कुछ छीन लेने के बाद दोनों नायकों की मृत्यु हो जाती है, वहीं नाटक में निर्देशक ने इन दोनों को बंधी ग्रह में जिंदा दिखाया और दिखाई शतरंज की लत में जकड़े इन दोनों किरदारों में शतरंज के लिए तड़प अपना सबकुछ लूट जाने के बावजूद न तो वो जी पाए और न ही अपनी लत का शिकार होने से बच पाए। नाटक की एक और खास बात थी कि इसमें किसी तरह का सैट प्रयोग नहीं किया गया।

 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !