बूथगढ़ में लगाया जागरूकता कैंप, गांववासी बोले-कर्मचारी नहीं करते सुनवाई

Tuesday, November 14, 2017 12:52 PM
बूथगढ़ में लगाया जागरूकता कैंप, गांववासी बोले-कर्मचारी नहीं करते सुनवाई

नयागांव(मुनीष) : गांव बूथगढ़ में सरकार द्वारा लोगों की भलाई के लिए चलाई जा रही स्कीमों के बारे में लोगोंं को जागरूक करने के लिए ए.डी.सी., ए.डी.सी. व एस.डी.एम. अमनिंदर कौर की अध्यक्षता में कैंप को आयोजन किया गया। 

 

इस कैंप में गांव के लोगों को पैंशन, आटा-दाल, शगून व कन्या जागृति स्कीमों के प्रति जानकारी दी गई, लेकिन कैंप के दौरान कुछ लोगों ने एस.डी.एम. से शिकायत की कि उन्हें वर्षों से इन स्कीमों का कोई लाभ नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि वे इन स्कीमों की पात्रता को पूरा करते हैं पर कर्मचारियों की उदासीनता का उन्हें शिकार होना पड़ता है। यही नहीं कई बार वे स्कीमों का फायदा लेने के लिए फार्म भी भर चुके हैं पर कोई भी फायदा नहीं हुआ। 

 

वर्षों से भटक रहा हूं पर आज तक नहीं लगी पैंशन :
गांववासी मेजर सिंह जिनका एक हाथ मशीन में आने से कट गया है ने कहा कि वह कई वर्षों से पैंशन के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं पर उनकी आज तक पैंशन नहीं लगी है। मेजर सिंह ने कैंप में अधिकारियों को कहा कि उन्होंने ऐसे ही कैंप में पहले भी पैंशन के लिए फार्म भरा था और अधिकारियों ने उन्हें आश्वस्त किया था कि उनकी पैंशन जल्द लगेगी पर अभी तो लगी नहीं। उन्होंने कहा कि उनकी आर्थिक हालत ठीक नहीं है तो उनकी पैंशन जल्द लगाई जाए। 

 

खाली रहीं कुर्सियां :
इस कैंप की जानकारी लोगों को देरी से दी गई, जिस कारण कम ही लोग कैंप में पहुंचे। यही कारण रहा कि अधिकारी तो पहुंच गए थे पर अधिकतर कुर्सियां खाली ही रहीं, वहीं कुछ बुजुर्ग कैंप में अपने फार्म जमा करवाने के लिए पहुंचे तो वे फोटोस्टेट करवाने के लिए इधर-उधर भटकते रहे। 

 

पहले बनाया कार्ड फिर काटा अब फिर फार्म भरवाया :
बलजीत कौर ने कहा कि सरकारी कैंप में उनका आटा-दाल स्कीम का लाभ लेने के लिए कार्ड बनाया गया था फिर फिर नाम काट दिया और आज फिर फार्म भरवाया। बलजीत ने कहा कि अधिकारी मनमर्जी से ही नाम को काट देते हैं। जिन लोगों को इन स्कीमों का फायदा मिलना चाहिए उनको मिल नहीं पाता और जिन्हें नहीं मिलना चाहिए वे पूरा फायदा उठाते हैं। 

 

माजरी तहसील में कामकाज रहा ठप्प :
कैंप में नायब तहसीलदार और बी.डी.ओ. विभाग के अधिकारी भी मौजूद रहे। जिस कारण कार्यालयों में काम करवाने आने वाले लोगों को परेशान होना पड़ा और बिना काम करवाए ही वापस लौटना पड़ा। 

 

शिव मंदिर में अवैध कब्जे के मुद्दे पर बोलीं एस.डी.एम- मैं इसमें कुछ नहीं कर सकती :
कैंप के दौरान गांव सिसवां में प्राचीन शिव मंदिर की जमीन पर कुछ लोगों द्वारा तार लगाकर किए गए अवैध कब्जे का मामला उठाया गया। संदीप शर्मा ने इस मुद्दे को एस.डी.एम. खरड़ के सामने रखा। शर्मा ने कहा कि एस.डी.एम. ने इस मामले में कहा कि मैं क्या कर सकती हूं। मुझे इस बारे में ना बताओ। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!