खेल प्रायोजन में 19 फीसदी की बढ़ौतरी

Saturday, March 18, 2017 1:18 PM
खेल प्रायोजन में 19 फीसदी की बढ़ौतरी

नई दिल्लीः नोटबंदी, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) में चल रहे संकट, आईपीएल में नई टीमों के बारे में अनिश्चितता और नई फुटबॉल लीग एवं टेनिस लीग की शुरुआती समस्याओं के बावजूद खेल प्रायोजन की राशि वर्ष 2016 में 19 पीसदी की जबरदस्त बढ़ौतरी के साथ 6400 करोड़ रुपए पहुंच गई। पिछले साल क्रिकेट ने सर्वाधिक प्रायोजन राशि जुटाई जबकि कबड्डी के मामले में 2015 की तुलना में 3 गुना बढ़ौतरी हुई। गुरुवार को जारी स्पोर्टिंग नेशन इन मेकिंग के चौथे संस्करण के मुताबिक देश के सबसे लोकप्रिय खेल क्रिकेट में अब भी सबसे ज्यादा पैसा बरय रहा है।

2015 की तुलना में पिछले वर्ष इसकी प्रायोजन राशि में महज 6 फीसदी का इजाफा हुआ और यह 264 करोड़ रुपए से 279 करोड़ रुपए पहुंच गई। अन्य खेलों की प्रायोजन राशि में इस दौरान 84 फीसदी की बढ़ौतरी हुई और यह 42 करोड़ रुपए से 77 करोड़ रुपए पहुंच गई। यह इस बात का संकेत है कि दूसरे खेलों की बढ़ती लोकप्रियता बढ़ रही और कंपनियां  उनके खिलाड़ियों को अपना ब्रांड एेंबेसडर बना रही है।

सर्वाधिक विज्ञापन करने वाले खिलाड़ियों की सूची में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली शीर्ष पर हैं। अन्य खेलों में ओलंपियन बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधू और महिला पहलवान साक्षी मलिक का दबदबा है। सिंधू ने पिछले साल सितंबर में बेसलाइन के साथ तीन साल का करार किया था। माना जा रहा है कि यह करार 50 करोड़ रुपए का है जिसमें परफॉरमेंस बोनस भी शामिल है।

विराट 100 करोड़ रुपए की ब्रांड लीग का हिस्सा हैं जिसमें महिंद्र सिंह धोनी और सचिन तेंदुलकर रह चुके हैं। विराट ने पिछले साल 20 ब्रांड का विज्ञापन किया जिनकी कुल फीस 120 करोड़ रुपए हैं। यह राशि दूसरे सभी खिलाड़ियों की सामूहिक फीस से ज्यादा है। सचिन के पास 2015 में 12 ब्रांड थे जो पिछले साल घटकर 8 रह गए।उनकी कुल करार राशि 45 करोड़ रुपए थी।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!