अगले वित्त वर्ष में रियल एस्टेट क्षेत्र का परिदृश्य नकारात्मक: इंडिया रेटिंग

Friday, March 3, 2017 5:59 PM
अगले वित्त वर्ष में रियल एस्टेट क्षेत्र का परिदृश्य नकारात्मक: इंडिया रेटिंग

नई दिल्लीः परियोजनाओं के पूरा होने में देरी और संपत्तियों के दाम ऊंचे होने की वजह से अगले वित्त वर्ष में भी जमीन-जायदाद क्षेत्र में परिदृश्य नकारात्मक बना रहने का अनुमान है। इंडिया रेटिंग एवं शोध एजेंसी ने यह अनुमान व्यक्त किया है। एजेंसी ने कहा है कि नकदी प्रवाह नकारात्मक रहने से कर्ज का स्तर बढ़ेगा और एेसा होने पर रियल एस्टेट क्षेत्र की ऋण साख और कमजोर होगी। एजेंसी ने कहा है, ‘‘आवासीय इकाइयों की बिक्री में लगातार गिरावट को देखते हुए इंडिया रेटिंग एण्ड रिसर्च ने वित्त वर्ष 2017-18 में रियल एस्टेट क्षेत्र के लिए नकारात्मक परिदृश्य को बनाए रखा है।’’ 

एजेंसी ने कहा है कि आवासीय इकाइयों के लगातार ऊंचे दाम से ये ग्राहकों की पहुंच से बाहर होते जा रहे हैं और यही वजह है कि आवासीय इकाइयों की बिक्री 2013-14 से लगातार घट रही है। इसमें कहा गया है कि अगले वित्त वर्ष की पहली छमाही में रीयल एस्टेट (नियमन एवं विकास) कानून के अमल में आने से क्षेत्र में तरलता और प्रभावित होने का अनुमान है। एजेंसी के मुताबिक रियल एस्टेट क्षेत्र कर्ज का भुगतान करने के लिए पुनर्वित पर ज्यादा निर्भर करता है लेकिन बिक्री कारोबार में तेजी आए बिना यह उसके लिए लगातार परेशानी वाला बना रहेगा।    
 




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !