मंदी की मार के बाद अब हुई रियल एस्टेट की सेल्स में बढ़ोतरी

Tuesday, May 9, 2017 11:44 AM
मंदी की मार के बाद अब हुई रियल एस्टेट की सेल्स में बढ़ोतरी

मुंबईः सरकार के नोटबंदी के कदम के बाद से मंदी की मार झेल रहे रियल एस्टेट सेक्टर की सेल्स में बढ़ोतरी शुरू हो गई है। चौथे क्वॉर्टर में सेल्स और नए प्रॉजेक्ट के लांच, दोनों अच्छे स्तर पर रहे जिसे इस मार्कीट के नोटबंदी से पहले के स्तर पर लौटने की उम्मीद बनी है। 2016-17 के चौथे क्वॉर्टर में देश के टॉप नौ मार्कीटस में रेजिडेंशल सेल्स में 13 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। एक रिपोर्ट के अनुसार, वॉल्यूम में बढ़ोतरी में मुंबई, पुणे और बेंगलुरु का बड़ा योगदान रहा। इन तीनों शहरों की कुल सेल्स में हिस्सेदारी 57 प्रतिशत की थी।

चौथे क्वॉर्टर में कुल रेजिडेंशल सेल्स बढ़कर 51,700 यूनिट पर पहुंच गई, जो नोटबंदी की मार वाले इससे पिछले क्वॉर्टर में 43,500 यूनिट की थी। इन शहरों में नए प्रॉजेक्ट के लांच में भी 19 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई, जो पिछले आठ क्वॉर्टर्स में सबसे अधिक है। चौथे क्वॉर्टर में लगभग 51,500 यूनिट लांच की गई। यह संख्या दिसंबर में समाप्त हुए इससे पिछले क्वॉर्टर में 43,250 यूनिट की थी। रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस के अनुसार, 2016 के चौथे क्वॉर्टर में देश के रियल्टी सेक्टर में सेल्स वॉल्यूम वर्ष-दर-वर्ष आधार पर लगभग 40 प्रतिशत कम रही, जबकि नए लॉन्च में करीब 60 प्रतिशत की कमी आई।

रियल्टी मार्कीट में सेंटीमेंट सुधरने का असर लिस्टेड रियल एस्टेट कंपनियों के शेयर प्राइसेज पर भी दिख रहा है। इन कंपनियों के शेयर्स में पिछले कुछ समय में अच्छी तेजी आई है। पिछले वर्ष 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा के बाद से BSE रियल्टी इंडेक्स 38.5 पर्सेंट चढ़ा है, जबकि इस अवधि में बीएसई सेंसेक्स में 8.5 पर्सेंट की तेजी दर्ज की गई।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !