देश में रिकॉर्ड खरीफ उत्पादन की संभावना

Sunday, August 6, 2017 6:53 PM
देश में रिकॉर्ड खरीफ उत्पादन की संभावना

नई दिल्ली : कृषि सचिव शोभना पटनायक ने कहा कि चालू खरीफ सत्र 2017-18 में खाद्यान्न उत्पादन, पिछले साल के 13 करोड़ 80.4 लाख टन के रिकॉर्ड को तोड़ सकता है। इसका कारण खेती के अधिक रकबे का होना तथा लगातार दूसरे वर्ष बेहतर मानसून रहना है। उन्होंने एक साक्षात्कार में बताया कि अभी तक धान, दलहन, तिलहन, कपास, गन्ना और जूट जैसी खरीफ फसलों की 80 प्रतिशत से भी अधिक बुवाई पूरी हो गई है तथा कुछ भागों में बुवाई का काम अगले महीने तक जारी रहेगा।

बाढ़ से 19 लाख हेक्टेयर फसल का रकबा हुआ प्रभावित
पटनायक ने कहा कि देश भर में बाढ़ के कारण करीब 19 लाख हेक्टेयर फसल का रकबा प्रभावित हुआ है और पानी के घटने के बाद किसानों के द्वारा अन्य खरीफ फसलों को अपनाने की संभावना है। उन्होंने कर्नाटक के कुछ भागों में कम बरसात होने के प्रति चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में बाढ़ तथा कर्नाटक के कुछ भागों में सूखे जैसी स्थिति थी। इन सबके बावजूद अभी तक खरीफ फसलों के खेती के रकबे में करीब 3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

कर्नाटक में स्थिति में अभी तक सुधार नहीं
पटनायक ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पानी घटने के बाद किसान अन्य फसलों को लगायेंगे लेकिन कर्नाटक में स्थिति में अभी तक सुधार नहीं है। उन्होंने कहा कि दक्षिणी कर्नाटक के आंतरिक भागों में अभी भी संकट जैसी स्थिति है लेकिन कुछ बरसात हुई है, आगे देखते हैं। कृषि मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले सप्ताह तक किसानों ने 878.23 लाख हेक्टेयर में खरीफ फसलों को बोया जो रकबा पिछले साल की समान अवधि में 855.85 लाख हेक्टेयर था। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!