अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला शुरु लेकिन प्रदूषण बना चुनौती

Wednesday, November 15, 2017 12:40 PM
अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला शुरु लेकिन प्रदूषण बना चुनौती

नई दिल्लीः अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले को भी इस बार दिल्ली के प्रदूषण के दुष्परिणाम भुगतने पड़ेंगे। प्रगति मैदान में शुरू हुए व्यापार मेले पर भी प्रदूषण का असर दिख रहा है। प्रदूषण के चलते बीते दिनों दिल्ली में ट्रकों के प्रवेश पर पाबंदी से ऐसे काफी कारोबारी पूरा माल नहीं मंगा सके, जो मेला शुरू होने के कुछ दिन पहले ही माल लाते हैं। पुर्नविकास के चलते पहले नियंत्रित दायरे में हो रहे मेले में प्रदूषण की वजह से खरीदारों की संख्या और कम रह सकती है। मंगलवार को राष्टपति रामनाथ कोविंद ने व्यापार मेले का शुभारंभ किया।

जयपुर के कारोबारी गुलशाद तोहर ने बताया कि हर साल ट्रांसपोर्टर के माध्यम से मेला शुरू होने के दो-दिन पहले माल मेले में भेजते हैं। लेकिन इस बार ट्रकों के प्रवेश पर पाबंदी के कारण ट्रांसपोर्टर ने माल बुक नहीं किया। इसलिए हम दो इनोवा के माध्यम से जितना माल लाना था, उसका आधा ही ला पाए। तोहर ने कहा इस बार दुकान के लिए काफी कम जगह दी गई है, जबकि पैसा पूरा लिया गया।
PunjabKesari
गुजरात के कारोबारी हसमुख बालजी कहते हैं कि वे भी कम माल ला पाए हैं। मेले में भाग लेने आए कश्मीर के कारोबारी सैयद जावेज ने कहा कि उन्होंने 2 नवंबर तक ही माल मंगा लिया था। इसलिए हम पर ट्रकों के प्रवेश पर रोक असर नहीं हुआ। इसका असर आस-पास के उन कारोबारियों पर हुआ है, जो मेले के दो-तीन दिन पहले माल लाते हैं। प्रदूषण के कारण मेले में बिक्री प्रभावित हो सकती है। जावेद कहते हैं कि मेले में पुर्नविकास कार्यों के चलते कम कारोबारियों को जगह दी गई और बीते सालों से इस बार मेला देखने आने वालों की संख्या आधी रहेगी। ऐसे में दिल्ली में प्रदूषण की मौजूदा स्थिति आगे भी ऐसी ही रही तो इसका बिक्री पर नकारात्मक असर पड़ेगा। गुलशाद भी मानते हैं कि प्रदूषण से मेले में खरीदारों की संख्या घटने से कारोबार में कमी आ सकती है। इस साल मेले में देसी-विदेशी दोनों को मिलाकर करीब 3,000 कारोबारी भाग ले रहे हैं।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!