मात्र 20 प्रतिशत जन-धन खाते परिचालन में नहीं: जेटली

Wednesday, September 13, 2017 5:07 PM
मात्र 20 प्रतिशत जन-धन खाते परिचालन में नहीं: जेटली

नई दिल्लीः वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत अब तक 30 करोड़ खाते खुल चुके हैं और उनमें से मात्र 20 प्रतिशत ऐसे खाते हैं जिनमें धनराशि जमा नहीं हुई है। जेटली ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा यहां आयोजित वित्तीय समावेशन सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए कहा कि तीन वर्ष पहले जब यह योजना शुरू हुयी थी तब 77 प्रतिशत ऐसे खाते थे जिनमें धनराशि जमा नहीं हुयी थी लेकिन अब ऐसे खातों की संख्या घटकर 20 प्रतिशत रह गई है।

उन्होंने कहा कि इन खातों को सिर्फ खोलना ही काफी नहीं है बल्कि इन्हें संचालित करने की भी जरुरत है। इसके मद्देनजर केन्द्र और राज्य सरकारों की कई योजनाओं के लाभ सीधे लाभार्थियों के जन-धन खाते में जमा कराए जा रहे हैं।  जन-धन खातों को संचालित करने के लिए चौतरफा पहल करने की जरुरत है। उन्होंने सरकारी संसाधनों को जरुरतमंदों के लिए लक्षित करने की आवश्यकता बताते हुए कहा कि पिछले तीन वर्षों में ऐसे मुद्दे केन्द्र बिंदु में लाए गए हैं जिन्हें पहले मुद्दा माना ही नहीं जाता था।

वित्त मंत्री ने कहा कि आधार कानून संवैधानिकता के परीक्षण में सफल रहेगा। पहले जब आधार लाया गया था तब इसकी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि अब इसकी क्षमता की पहचान हो रही है और यह देश के लिए बहुत जरूरी है।  नोटबंदी से अनौपचारिक अर्थव्यवस्था औपचारिक बन गई है और इससे न केवल कर आधार बढ़ाने में मदद मिली है बल्कि नगदी लेन-देन में भी कमी आई है। नोटबंदी के बाद डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा दिया गया था जिसका असर अब दिखने लगा है।



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!