टमाटर और प्याज की बढ़ीं कीमतें, बिगड़ा सब्जी का जायका

Sunday, November 5, 2017 9:53 AM
टमाटर और प्याज की बढ़ीं कीमतें, बिगड़ा सब्जी का जायका

नई दिल्लीः देश की राजधानी दिल्ली में मंडियों में जमाखोरों ने टमाटर और प्याज की जमाखोरी शुरू कर दी है जिसका असर यह हुआ है कि टमाटर और प्याज के दामों में एक बार फिर से बेतहाशा बढ़ौतरी दर्ज की गई है। दिल्ली में अब टमाटर 60-70 रुपए और प्याज 80 रुपए किलो के पार जा चुका है। अगर ये दाम ऐसे ही बढ़ते रहे तो जल्द ही सब्जी का जायका बिगडऩे में देर नहीं लगेगी। दरअसल टमाटर का यह भाव अक्तूबर के दौरान रहे औसत भाव की तुलना में काफी ज्यादा है। इसी तरह प्याज के दाम में भी अक्तूबर की तुलना में इस महीने वृद्धि हुई है।

बढ़ते दामों पर सरकारें आमने-सामने
गौरतलब है कि गत दिवस केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने प्याज और टमाटर के बढ़ते दामों का कारण मौसम की मार बताया था वहीं दिल्ली सरकार ने जमाखोरों की ओर से किए गए अवैध भंडारण को इनकी कीमतों में वृद्धि का कारण बताया। प्याज और टमाटर की बढ़ती कीमतों के मुद्दे पर दोनों सरकारों में मतभेद खुल कर सामने आए हैं।

टमाटर और प्याज की जमाखोरी मिली तो होगा एक्शन
प्याज और टमाटर के बढ़ते दाम को ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने विभाग के अधिकारियों के साथ टमाटर व प्याज की बढ़ती कीमतों की समीक्षा की। खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक टमाटर और प्याज के दाम में बिना किसी मुमकिन कारण के लगातार वृद्धि इन चीजों की जमाखोरी की तरफ  इशारा करती है। इस दौरान उन्होंने खुफिया सैल, प्रवर्तन शाखा, विभाग के सर्कल कार्यालयों, अधिकारियों और दिल्ली कृषि विपणन बोर्ड को बाजारों में सक्रियता बढ़ाकर जमाखोरों तथा कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। जांच टीमें आजादपुर मंडी, ओखला मंडी, केशोपुर मंडी सहित अन्य मार्कीट पर नजर रखेंगी।

सुबह करेंगे अधिकारी मंडियों का निरीक्षण
दरअसल आजादपुर, ओखला, गाजीपुर और केशोपुर जैसी थोक मंडियों में रात में ही सब्जियां पहुंच जाती हैं। यहां से खुदरा व्यापारियों को बेच दी जाती हैं। इसे देखते हुए इमरान हुसैन ने अधिकारियों को सुबह-सुबह इन मंडियों के निरीक्षण के निर्देश दिए। साथ ही विक्रेताओं और आढ़तियों के गोदामों की जांच करने को भी कहा। समीक्षा के दौरान उन्होंने खाद्य एवं नागरिक आपूॢत विभाग को छापेमारी की अनुमति जारी करने और टीमों की मदद के लिए संबंधित इलाके के एस.एच.ओ. को सहायता के लिए पहले सूचित करने के लिए कहा। 
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!