घर खरीदते समय दफ्तर से दूरी भी देखते हैं दिल्ली वाले

Saturday, December 23, 2017 4:42 PM
घर खरीदते समय दफ्तर से दूरी भी देखते हैं दिल्ली वाले

नई दिल्लीः दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में आधे लोग मकान खरीदते समय यह ध्यान देने लगे हैं कि वह उनके दफ्तर या कार्यस्थल से कितना दूर पड़ता है। ओएलएक्स तथा केंटार टीएनएस की एक साझा अध्ययन रिपोर्ट का निष्कर्ष है कि दिल्ली -एनसीआर में घर खरीदने वाले 50 प्रतिशत लोग दफ्तर के आसपास ही मकान खोजते हैं। इसके विपरीत 48 प्रतिशत लोग निवेश व सुरक्षा से जुड़ी बातों को तरजीह देते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार निवेश व सुरक्षा को तरजीह देने वालों में से 45 प्रतिशत का कहना है कि वे जिम, स्विमिंग पूल जैसी बातों पर भी ध्यान देते हैं। इसके अनुसार बढ़ती जनसंख्या व वाहनों की भीड़ के बीच महानगरों में लोग ऐसी जगह घर खरीदना चाहते हैं जहां से वे संभव हो तो दफ्तर पैदल ही आ जा सकें। ओएलएक्स इंडिया के सीओओ इरविन प्रीत सिंह ने कहा कि यह अध्ययन जमीन जायदाद बाजार में उपभोक्ताओं के नये रुख को समझने में मदद करती है। उन्होंने कहा दिल्ली-एनसीआर हमारे रीयल इस्टेट खंड की सबसे तेजी से बढ़ने वाले बाजार है जहां एक तिहाई खरीददार ‘रेडी टु मूव’ संपत्ति मे निवेश करना चाहते हैं।

केंटार टीएनएस के सहायक उपाध्यक्ष सचिन हजेला ने कहा कि इस अध्ययन से पूरे देश में घर खरीदने वालों के रुझान का पता लगता है और इसमें हमने देखा कि 80 प्रतिशत लोग ऑनलाइन पोर्टल का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें उन्हें विक्रेता से लेकर ब्रोकर तक की पूरी जानकारी मिल जाती है और ऑनलाइन जांच-पड़ताल हो जाती है। इस अध्ययन में दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद और तिरुवनंतपुरम में घर खरीदने वालों से पूछताछ की गई। इसमें अधिकांश की उम्र 30 से 55 साल के बीच है। इनमें ज्यादातर 8 लाख रुपये सालाना आमदानी वाले और नियमित रुप से इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले हैं।  



अपना सही जीवनसंगी चुनिए | केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन