3 करोड़ टन हो गई गेहूं की सरकारी खरीद

Saturday, June 3, 2017 3:11 PM
3 करोड़ टन हो गई गेहूं की सरकारी खरीद

नई दिल्ली: गेहूं की सरकारी खरीद तीन करोड़ टन पहुंच गई है। यह आंकड़ा पिछले साल की इसी अवधि में हुई खरीद के मुकाबले 70 लाख टन अधिक है। चालू फसल वर्ष (जुलाई, 2016 से जून, 2017) में गेहूं की रिकॉर्डतोड़ पैदावार हुई है। यह सर्वाधिक 9.7 करोड़ टन के उच्च स्तर को छूने लगी है। इसी के मद्देनजर भारतीय खाद्य निगम (एफ.सी.आइ.) ने गेहूं खरीद के लिए अपना लक्ष्य 3.30 करोड़ टन निर्धारित किया है। यह पिछले साल के 2.29 करोड़ टन के मुकाबले एक करोड़ टन अधिक है।

पिछले साल गेहूं की कमी को पूरा करने के लिए आटा मिलों को 55 लाख टन महंगा गेहूं आयात करना पड़ा था। उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ योगी आदित्यनाथ की सरकार ने गेहंट की पूर्व निर्धारित लक्ष्य 30 लाख टन के विपरीत 80 लाख टन गेहूं खरीद का लक्ष्य पुन: निर्धारित किया। मगर खरीद की गति तेज होने के बावजूद 30 लाख टन के आसपास ही गेहूं खरीदा जा सका है।

|खरीद प्रणाली में पर्याप्त सुधार और जन प्रतिनिधियों के सक्रिय नहीं होने की वजह से खरीद के 80 लाख टन तक पहुंचने की संभावना समाप्त हो गई है। फिलहाल उत्तर प्रदेश की मंडियों में गेहूं की दैनिक आवक 58,000 टन रह गई है। राज्य सरकार ने गेहूं खरीद की अवधि को बढ़ा जरूर दिया है, लेकिन दैनिक आवक में खास सुधार नहीं है। इसके बावजूद राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी का दावा है कि गेहूं खरीद 50 लाख टन तक पहुंच जाएगी।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !