कर्ज की दरें घटाने के लिए बैंकों के पास अभी भी प्रयाप्त मौके: पटेल

Thursday, April 20, 2017 7:04 PM
कर्ज की दरें घटाने के लिए बैंकों के पास अभी भी प्रयाप्त मौके: पटेल

मुंबई, : भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की पिछली बैठक में से कहा था कि बैंकों के लिए ब्याज दरों में और कटौती की गुंजाइश है। इसके साथ ही पटेल ने आने वाले महीनों में मुद्रास्फीति को लेकर सतर्क रहने को आगाह किया है।

उल्लेखनीय है कि पटेल की अध्यक्षता वाली छह सदस्यीय एमपीसी ने छह अप्रैल को बेंचमार्क नीतिगत ब्याज दर (रेपो दर) को लेकर यथास्थिति बनाए रखने का फैसला किया था। रिजर्व बैंक ने एमपीसी की बैठक का ब्यौरा आज जारी किया है।  इसके अनुसार पटेल ने कहा,‘ बैंकों के लिए ब्याज दरों में कटौती की गुंजाइश अभी है। प्रभावी संचरण के लिए यह महत्वपूर्ण है कि लघु बचतों पर ब्याज दर वित्तीय प्रणाली के अन्य तुलनात्मक परिपत्रों पर ब्याज दर के हिसाब से नहीं हों।’

निम्न  ब्याज दरों से आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन मिलता है लेकिन साथ ही मुद्रास्फीति बढऩे की आशंका भी बलवती होती है। रिजर्व बैंक आर्थिक वृद्धि को प्रभावित किए बिना मुद्रास्फीति पर लगाम लगाए रखने की कोशिश कर रहा है। वहीं समिति के अन्य सदस्य व रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कहा कि वृद्धि के मोर्चे पर पुनर्मुद्रीकरण तेजी से चल रहा है और अर्थव्यवस्था के अनेक क्षेत्रों में तेजी से सुधार हुआ है।




विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !